Edible Oil Price Hike: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। खाद्य तेलों के आयात शुल्क में कटौती के बाद अब सरकार का यह फैसला भी तेल की महंगाई के आगे विफल होता नजर आ रहा है। इस निर्णय के बाद उम्मीद की जा रही थी कि त्योहारी सीजन में खाद्य तेलों की महंगाई से उपभोक्ताओं को राहत मिल सकेगी। हालांकि बाजार में ऐसा कुछ नहीं हुआ। दो दिन में थोक बाजार में खाद्य तेलों में गिरावट आई लेकिन अब दाम स्थिर हो गए हैं। बताया जा रहा है कि जैसे ही भारत में खाद्य तेलों पर ड्यूटी कटौती की घोषणा हुई भारत की मांग भांपकर तेल निर्यातक अन्य देशों ने अपने बाजार में तेल के दाम बढ़ा दिए। यानी तेलों के आयात पर ड्यूटी कटौती के निर्णय से लाभ तो विदेशी तेल कारोबारियों को हो रहा है। ऐसी आशंका जताकर पहले ही सोपा तेलों पर शुल्क कटौती का विरोध कर चुका है। दूसरी ओर बाजार में किसानों का नुकसान इस निर्णय से होता नजर आ रहा है। मध्य प्रदेश की मंडियों में नीचे में सोयाबीन के दाम 3000 रुपये तक आ चुके हैं। महाराष्ट्र में भी ऐसी ही स्थिति बन रही है।

इंदौर में सोपा के सोया कान्क्लेव में भारतीय कृषक समाज के अध्यक्ष कृष्णवीर चौधरी जो खुद सत्ताधारी पार्टी से जुड़े हैं उन्होंने भी सोयामील के निर्यात के निर्णय को किसानों के लिए अहितकारी बताया था। बाजार के जानकारों का कहना है कि सरकार को किसानों को एमएसपी सुनिश्चित करनी होगी जिससे किसानों को उनकी फसल के अच्छे दाम मिल सकें। सोपा व अन्य एजेंसियां देश में सोयाबीन का उत्पादन बढ़ने की उम्मीद जता रही हैं हालांकि किसान इससे इत्तेफाक नहीं रखते।

किसानों का कहना है असल में बुवाई के समय महंगे बीज के कारण सोयाबीन की बुवाई और जाते मानसून की बारिश से उत्पादन दोनों सारे आंकलनों से कम ही रहेंगे। ऐसे में किसान आपस में सलाह भी दे रहे हैं कि सोयाबीन को रोककर बेचा जाए तो आगे अच्छे दाम मिल सकेंगे। इधर इंदौर बाजार में पिछले दो दिनों से सोया तेल के दामों में स्थिरता बनी हुई है। शनिवार को सोया तेल इंदौर 1275- 1280 रुपये प्रति 10 किलो बोला गया। वहीं मूंगफली तेल की आवक खूब होने से भाव धीरे-धीरे टूट रहे हैं।

शनिवार को मूंगफली तेल इंदौर 10 रुपये और टूटकर 1440-1460 रुपये प्रति 10 किलो रह गया। दूसरी ओर मौसम खुलने के साथ ही कपास की आवक में हो रही बढ़ोतरी से कपास्या खली की उपलब्ध्ाता भी बाजार में बढ़ती जा रही है जबकि लेवाल बेहद कमजोर होने से भाव में जोरदार गिरावट रही। शनिवार को कपास्या खली में करीब 125 रुपये की गिरावट रही। घटे दामों पर भी लेवाली बेहद कमजोर बनी हुई है।

तिलहन भाव : सरसों 7500 से 7600, रायड़ा 7200 से 7300, सोयाबीन 4000-5300 रुपये। सोयाबीन डीओसी स्पॉट 42000 से 43000 रुपये टन।

प्लांटों के सोयाबीन भाव : प्रकाश 5300, धानुका 5200, शांति 5200 रुपये।

कपास्या खली (60 किलो भरती) बिना टैक्स भाव : इंदौर 1900, देवास 1900, उज्जैन 1900, खंडवा 1875, बुरहानपुर 1875, अकोला 2600 रुपये।

लूज तेल (प्रति 10 किलो)

इंदौर मूंगफली तेल 1440 से 1460, मुंबई मूंगफली तेल 1450, इंदौर सोयाबीन रिफाइंड 1275 से 1280, इंदौर सोयाबीन साल्वेंट 1205 से 1210, मुंबई सोया रिफाइंड 1290-1295, मुंबई पाम तेल 1205-1210, राजकोट तेलिया 2250, गुजरात लूज 1400 से 1425, कपास्या तेल इंदौर 1330 से 1340 रुपये।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local