इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। कोरोना संक्रमण व उससे उपजी समस्याअों का लोगों के मन-मसि्तष्क पर गहरा प्रभाव पड़ा है। मौजूदा परिस्थितियों के चलते कई लोग तनाव, निराशा और अवसाद से भी घिर चुके हैं। ऐसे में लोगों की मदद करने और उनके मन में एक बार फिर सकारात्मकता व उत्साह का दीप जलाने के लिए शहर की एक कलाकार ने अनूठी पहल की है। यह कलाकार इन दिनों अवसाद, निराशा, तनाव से घिरे लोगों को आर्ट थैरेपी के माध्यम से पहले की तरह खुश रखने का प्रयास कर रही है।

कलाकार फाल्गुनी चैतन्य पिंपरीकर ने इंटरनेट मीडिया को माध्यम बनाकर आर्ट थैरेपी दे रही हैं। समाजसेवा का उद्देश्य लिए वे यह कार्य निशुल्क कर रही हैं। हर शनिवार व रविवार की शाम यह थैरेपी दी जाती है। फाल्गुनी बताती है कि इस थैरेपी में भाग लेने वालों को मंडला आर्ट के माध्यम से तनाव व निराशा रहित करने का प्रयास किया जा रहा है। मंडला आर्ट में जिस तरह गोले प्रधानता से बनाए जाते हैं वैसे ही इस थैरेपी में गोले बनवाए जाते हैं। इन गोलों को चार भागों में बांट एक भाग में व्यक्तिगत जीवन, दूसरे भाग में सामाजिक जीवन, तीसरे भाग में पारिवारिक जीवन और चौथे भाग में व्यवसायिक जीवन के बारे में लिखा जाता है।

थैरेपी लेने वालों से कहा जाता है कि इन चारों भागों में से जिसमें ज्यादा परेशानी है उस भाग में परेशानियां लिखी जाएं और जहां खुशियां है वहां उसके बारे में लिखें। नकारात्मक विचार लिखकर उसपर काला रंग करा कर परेशानियों को मिटाने की बात की जाती है जबकि खुशियों पर पीला, लाल आदि रंग कराकर सकारात्मकता की अोर बढ़ने का संदेश दिया जाता है। साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि सुख-दुख को संबंधित रंगों से व्यक्त करें। इस कार्यशाला में वर्तमान में 17 वर्षीय युवती से लेकर 60 वर्षीय महिला तक भाग ले रही हैं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local