इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि) Indore News। वर्तमान में जीवन में सफल होना बहुत जरूरी हो गया है। अब मेमोराइज पैटर्न ही पर्याप्त नहीं। समस्या का हल निकालने की क्षमता, इनोवेटिव स्किल्स व लाइफ लांग लर्निंग आज की शैक्षिक और मानसिक पद्धति में आवश्यक है। किसी भी क्षेत्र में महारथ प्राप्त व्यक्ति का सम्मान उसके कौशल को तो प्रोत्साहन देता ही है साथ ही अन्य लोगों को भी आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करता है।

यह बात पुणे के सूर्यदत्ता ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के संस्थापक अध्यक्ष व सचिव डा. संजय चोरड़िया ने सम्मान समारोह में कही। संस्था द्वारा प्रतिवर्ष दिए जाने वाले लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड, सूर्य गौरव नेशनल अवार्ड एवं सूर्यदत्ता एक्सीलेंस अवार्ड दिया जाता है। स्टेट प्रेस क्लब द्वारा रवींद्र नाट्य गृह में आयोजित तीन दिनी भारतीय पत्रकारिता महोत्सव के समापन अवसर पर आयोजित इस सम्मान समारोह में अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेशमुनि ने अध्यक्षता की। सूर्यदत्ता लाईफटाईम अचीवमेंट अवार्ड डा. अनिल भंडारी को प्रदान किया गया।

सूर्यगौरव नेशनल अवार्ड की श्रृंखला में धार्मिक एवं आध्यात्मिक क्षेत्र में महाकालेश्वर मंदिर के पुजारी दिनेशगुरु, कला एवं संगीत के क्षेत्र में कविता पौड़वाल, तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में नीलेश जैन, मीडिया एवं जर्नलिज्म में प्रवीण खारीवाल, राजेश बादल व संदीप मेहता, सामाजिक एवं अल्पसंख्यकों के कल्याण सेवा में प्रभा घोड़ावत तथा टेलीविजन की बाल कलाकार देशना दुगड को अवार्ड प्रदान किए गए। इस अवसर पर पूर्व हॉकी प्लेयर मीररंजन नेगी, सांसद शंकर ललवानी, पूर्व सांसद कृष्ण मुरारी मोघे, पूर्व मंत्री सचिन यादव, देवी अहिल्याबाई विश्विद्यालय की कुलपति डा. रेणु जैन व पीजी धोका विशेष रूप से उपस्थित थे।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags