इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। देर रात लगभग 12 बजे पलासिया थाने की टीम आरती और मोनिका यादव उर्फ सीमा को लेकर विजयनगर चौराहे स्थित 'श्री' होटल पहुंची। रूम नंबर 104 की शिनाख्त करवाई। पुलिस ने पूछा कि क्या इसी रूम में इंजीनियर हरभजन के साथ रुकी थी? इस पर दोनों ने हामी भरी। उसके बाद होटल का रिकॉर्ड जब्त किया गया। अगस्त माह में यह रूम हरभजन ने बुक कराया था।

उसके बाद टीम दोनों महिलाओं को लेकर होटल इनफिनिटी पहुंची। वहां 10-15 मिनट तक रिसेप्शन के सारे रिकॉर्ड खंगाले। इस होटल में 30 अगस्त को आरती के नाम से रूम नंबर 414 बुक किया गया था। इसका बिल लगभग 4000 रुपए बना था। पुलिस ने बतौर सबूत बुकिंग के दौरान दिए गए आधार कार्ड और अन्य दस्तावेजों के जब्त कर लिए। इस दौरान एक और महिला छतरपुर की रूपा अहिरवार का भी होटल में रुकना पाया गया।

फर्जी आधार से होटल में रुकी थी मोनिका

होटल इनफिनिटी में मोनिका यादव ने रुकने के लिए फर्जी नाम का उपयोग किया था। वह सीमा सोनी के नाम से होटल में रुकी थी। इस नाम का फर्जी आधार कार्ड भी होटल को दिखाया था। शनिवार रात पुलिस ने होटल के रिकॉर्ड जब्त किए तो उसमें फर्जी आधार कार्ड का खुलासा हुआ। इस होटल में रूपा अहिरवार नामक महिला का रुकना भी पाया गया। इस महिला का नाम पहली बार सामने आया है। अभी तक यह महिला पुलिस रिकॉर्ड में नहीं आई थी।

पुलिस ने दोनों युवतियों पूछा- क्या यही कमरा है

पुलिस पहले दोनों युवतियों को होटल श्री लेकर पहुंची। उन्हें पहली मंजिल पर ले गए और रूम नंबर 104 के सामने खड़े करवा दिया। दोनों युवतियों ने इशारे से कहा कि हां, हम इसी कमरे में रुके थे। होटल के रजिस्टर में आरती भोपाल के नाम से रूम दर्ज था। इसके बाद पुलिस अफसर दोनों युवतियों को होटल इनफिनिटी लेकर पहुंचे। होटल रिकॉर्ड में तीन युवतियों के नाम थे और तीनों के आधार कार्ड भी थे। होटल के चौथे माले के रूम नंबर 414 के भीतर पुलिस दोनों युवतियों को लेकर पहुंची और दोनों के बयान भी दर्ज कराए। इसके बाद दोनों युवतियों को पुलिस अफसर फिर थाने ले गए।