Hello Doctor Indore: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नमकीन का शौक इंदौरियों में दिल की बीमारी को बढ़ा रहा है। नमकीन में सामान्य से अधिक मात्रा में नमक होता है जो रक्तचाप बढ़ाने का काम करता है। सामान्य दिनों के मुकाबले ठंड के दिनों में हृदयाघात के मामलों में बढ़ोतरी हो जाती है। इनकी वजह है कि इन दिनों शरीर का तापमान कम हो जाता है। नसें सिकुड़ जाती हैं। इस वजह से दिल को अन्य दिनों के मुकाबले ज्यादा काम करना पड़ता है। ठंड के दिनों में रक्त का गाढ़ापन और कोलेस्ट्राल की मात्रा भी बढ़ जाती है। यही वजह है कि इन दिनों हृदयाघात के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। यह भ्रांति है कि दिल के मरीजों को खानपान में बहुत परहेज रखना पड़ता है। ऐसा है नहीं। वे सब कुछ खा सकते हैं, लेकिन सीमित मात्रा में।

यह बात हृदयरोग विशेषज्ञ डा. विनोद सोमानी ने कही। वे बुधवार को नईदुनिया के साप्ताहिक आयोजन हेलो डाक्टर में पाठकों के सवालों के जवाब दे रहे थे। उन्होंने बताया कि युवाओं में हृदयाघात के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसकी बड़ी वजह धूमपान है। धूमपान या तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन रक्त को जाड़ा कर देता है। यही हृदयाघात की वजह बनता है।

यूं समझें दिल की भाषा

-अगर सीने में भारीपन लग रहा है तो इसी हल्के में न लें

-मधुमेह के मरीजों की सांस अगर कुछ कदम चलने पर ही फूलने लगे

-कुछ कदम चलने पर अगर गले में कांटा चुभने जैसा लगे

-थोड़ी देर चलने पर दांत में दर्द होने लगे तो रुकने पर सामान्य हो जाए

-दिनचर्या में अगर कुछ भी असामान्य लगे तो तुरंत जांच करवाएं

धूमपान की वजह से युवा बन रहे हृदय रोगी

डा.सोमानी ने बताया कि अस्पतालों में पहुंचने वाले हृदय रोगियों में 20-22 आयुवर्ग के युवा भी शामिल हैं। इसकी एक बड़ी वजह धूमपान है। इसके अलावा अनियंत्रित मधुमेह मोटापा आदि भी कई कारण हैं जिसकी वजह से युवाओं में हृदय रोग तेजी से बढ़ रहा है

धूप निकलने पर घूमने जाएं बुजुर्ग

अगर आपकी उम्र 60 वर्ष या इससे अधिक है तो आपको अलसुबह घूमने जाने से बचना चाहिए। सुबह सात बजे बाद ही घूमने निकलें। घूमने जाते वक्त ठंड से बचाव के लिए पर्याप्त कपड़े पहनें।

सौ ग्राम नमकीन रोज यानी एक महीने में 800 एमएल तेल अतिरिक्त

डा.सोमानी ने बताया कि हृदय रोगियों के लिए खानेपीने पर कोई बंदिश नहीं है लेकिन उन्हें अपने खाने का तरीका बदलना होगा। नाश्ता सुबह नौ बजे, दोपहर का खाना एक से दो बजे के बीच और रात का खाना आठ बजे से पहले हो जाना चाहिए। रोजाना पराठे न खाएं। हृदय रोगी घी खा सकते हैं लेकिन सीमित मात्रा में। नमकीन का अत्याधिक सेवन दिल को सीधे-सीधे नुकसान पहुंचाता है। अगर आप रोजाना 100 ग्राम नमकीन खाते हैं तो एक महीने में 800 एमएल अतिरिक्त तेल आपके शरीर में जाता है। इसके अलावा कचौड़ियां भी नुकसान पहुंचाती हैं। खाने में नमक एकदम से बंद न करें। सबसे पहले आपको खाने में उुपर से नमक लेना बंद करना चाहिए। पापड़ और अचार में नमक बहुत ज्यादा होता है। दिल के मरीजों को इनके सेवन से बचना चाहिए।

अगर ब्लड प्रेशर लगातार 140 से ऊपर रहता है तो हो जाएं सतर्क

डा. सोमानी ने बताया कि अक्सर लोग कहते हैं कि उनका ब्लड प्रेशर हमेशा 140 से उुपर रहता है लेकिन उन्हें कोई दिक्कत नहीं होती। यह धारणा सही नहीं है। ब्लड प्रेशर लगातार उुपर रहने पर शरीर उसके हिसाब से खुद को समायोजित कर लेता है लेकिन ऐसे लोगों को भविष्य में किडनी, आंखों, लकवा, हृदयाघात या नसों की अन्य बीमारियां होने की आशंका ज्यादा रहती है।

दिल को स्वस्थ रखना है तो रखें ध्यान

-हृदय रोगियों को हल्के व्यायाम करना चाहिए

-बुजुर्ग लोगों को अलसुबह टहलना से बचना चाहिए। वे सुबह सात बजे बाद टहलने निकलें

-परिवार में किसी को दिल की बीमारी, मधुमेह, उच्च रक्तचाप है तो नियमित जांच जरूर करवाते रहें

दिल के मरीज ये भी रखें ध्यान

- चर्बी युक्त खाने से परहेज करें

- फल, हरी सब्जी का ज्यादा सेवन करें

- दिल के मरीज दूध पी सकते हैं लेकिन मलाई निकाल कर

- जिन लोगों को दिल की बीमारी है उन्हें भारी व्यायाम से बचना चाहिए

सवाल-जवाब

सवाल- बुजुर्गों को ठंड के मौसम में दिल की बीमारी ज्यादा होती है। इसकी क्या वजह है। - अनिल कवचाले

जवाब - इस मौसम में शरीर का तापमान कम होता है। दिल को ज्यादा काम करना पड़ता है। नसों के सिकुड़ने की वजह से पंपिंग में दिक्कत आती है। कोशिश करें कि ठंड से बचें। ठंड में सीधे बाहर न निकलें। गर्म कपड़े पहने और गर्म पेय पदार्थों का सेवन करते रहें।

सवाल - मेरे पिताजी की उम्र 93 वर्ष है। इस मौसम में उन्हें नसों में खिंचाव होता है। कई बार वे बेसुध हो जाते हैं। -मनोज मिश्रा

जवाब - उन्हें ठंड से बचाएं। गर्म कपड़े का मतलब सिर्फ मोटी चादर नहीं होता। आपको अलग-अलग लेयर के कपड़े पहनाना चाहिए। इस बात की संभावना भी है कि उनका ब्लड प्रेशर कम हो रहा हो। ऐसे मेें नमक की मात्रा बढ़ाना चाहिए।

सवाल - इसी मौसम में दिल की परेशानी अधिक क्यों आती है। राजेश अग्रवाल

जवाब - शरीर का तापमान कम होने की वजह से नसें सिकुड़ जाती हैं। इस वजह से दिल को ज्यादा काम करना पड़ता है ताकि पूरे शरीर में रक्त पहुंचा सके। ठंड में बाहर निकलने से बचें। अलसुबह उठकर व्यायाम नहीं करें। ठंडी खाद्य वस्तुएं न खाएं।

सवाल - जिन व्यक्तियों की बायपास सर्जरी हो चुकी है उन्हें क्या सावधानी रखना चाहिए। - भेरूलाल कुमावत

जवाब - ऐसे लोग सुबह सात बजे बाद ही घरों से बाहर निकलें। खानपान का ध्यान रखें और नियमित जांच करवाते रहें।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close