Indore News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गुरुवार रात हुई तेज वर्षा ने शहर को बदहाल कर दिया है। गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात बिजली बार-बार गुल होती रही। कुछ इलाकों में तो कई घंटे बिजली गुल रही। इसके चलते रहवासी परेशान होते रहे। जलजमाव की वजह से भी लोगों को परेशानी हुई। शहर की निचली बस्तियों में घरों में पानी घुस गया। लोग देर रात तक पानी निकालते रहे।

स्मार्ट सिटी प्रोटेक्ट के तहत बड़े गणपति से कृष्णपुरा पुल तक सड़क चौड़ीकरण चल रहा है। बार-बार सचेत करने के बावजूद काम की गति धीमी है। सड़क कई जगह अधूरी है। कहीं कच्चा काम करके छोड़ दिया गया तो तो कहीं गलियों के मुहाने पर मिट्टी के ढेर लगाकर आवागमन रोक दिया गया है। गुरुवार रात हुई वर्षा की वजह से मिट्टी के ढेर किचड़ में बदल गए। शुक्रवार सुबह अपने काम पर जाने के लिए घरों से निकले लोग परेशान होते रहे। गलियों के मुहाने पर मिट्टी के ढेर लगे होने से लोगों को मुख्य मार्ग तक पहुंचने के लिए रास्ता नहीं मिल रहा है।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत ही राजबाड़ा से मरीमाता चौराहे तक सड़क चौड़ीकरण होना है। वर्षाकाल के बावजूद स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट ने इसका काम शुरू कर दिया है। तोड़फोड़ से निकला मलबा सड़क पर पड़ा है और राहगीरों की परेशानी बढ़ा रहा है। रहवासियों का कहना है कि हम चौड़ीकरण का विरोध नहीं कर रहे हैं लेकिन वर्षाकाल को ध्यान में रखते हुए काम किया जाना चाहिए था। तोड़फोड़ की वजह से असुविधा हो रही है। एक तरफ वर्षा हो रही है, दूसरी तरफ तोड़फोड़ की वजह से मकान खंडहर हो गए हैं। ऐसे में लोगों के लिए वैकल्पिक स्थान तलाशना भी मुश्किल हो रहा है। इस क्षेत्र के व्यापारियों का कहना है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत किए जा रहे काम की वजह से व्यापार प्रभावित हो रहा है।

पूरे प्रदेश में पुस्तकों के सबसे बड़े बाजार के रूप में पहचाने जाने वाला खजूरी बाजार भी बदहाल है। शिक्षा सत्र शुरू हो चुका है। कोरोना की वजह से दो साल का नुकसान उठा चुके व्यापारियों को उम्मीद थी कि इस वर्ष व्यापार अच्छा चलेगा लेकिन सड़क चौड़ीकरण ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close