इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Makar Sankranti 2021। सूर्य के उत्तरायण होने के उपलक्ष्य में मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी को हर्षोल्लास से मनाया जाएगा। स्नान-दान के पर्व पर फिजा में तिल-गुड़ की मिठास घुलेगी। आसमान में रंग-बिरंगी पतंगें नजर आएंगी। साथ ही शहर में पारंपरिक खेल गिल्ली-डंडा, सितोलिया आदि खेलों का आयोजन होगा। तमिल, तेलुगु, कन्नाड़ समाज के लोग पोंगल और मलयाली भाषी ताल-पोळी यात्रा निकालेंगे।

ज्योतिर्विद ओम वशिष्ठ ने बताया कि शौर्य के प्रतीक सिंह पर सवार होकर संक्रांति का आगमन होगा जबकि उपवाहन समृद्धि का प्रतीक गज रहेगा। संक्रांति का पुण्यकाल 8 घंटे 5 मिनट रहेगा। सूर्य का धनु से मकर राशि में प्रवेश सुबह 8:15 बजे होगा। पुण्यकाल शाम 4:20 बजे तक रहेगा। इस मौके पर पंचग्रही योग भी बन रहा है। सूर्य, चंद्र, बुध, गुरु, शनि मकर राशि में रहेंगे। सूर्य के मकर में प्रवेश के साथ मांगलिक कार्यों की शुरुआत हो जाती है, लेकिन इस बार वैवाहिक आयोजन शुरू नहीं होंगे। इसका कारण 17 जनवरी को गुरु का अस्त होना है।

मलयाली समाज करेगा 16 प्रकार की पूजा

लार्ड अयप्पा चैरिटेबल सोसायटी के अध्यक्ष साजन पणिकर ने बताया कि मलयाली समाज मकर संक्रांति पर 16 प्रकार की पूजा करेगा। इसके बाद शाम 6:30 बजे महालक्ष्मी नगर में महालक्ष्मी मंदिर से अयप्पा मंदिर तक तालपोळी यात्रा निकाली जाएगी। इसके बाद दीप आराधना, भजन और अन्नादान के कार्यक्रम होंगे।

तमिल-कन्नड़ मनाएंगे पोंगल

तमिल, तेलुगु, कन्नड़ समाज के लोग पोंगल मनाएंगे। कोरोना गाइडलाइन के कारण साउथ इंडियन कल्चरल एसोसिएशन के तत्वावधान में समाजजन सीमित संख्या में एकत्रित होकर उत्सव मनाएंगे। 14 जनवरी की शाम चार बजे से स्कीम नं. 54 में सिका स्कूल परिसर स्थित भगवान कार्तिकेय मंदिर में उत्सव मनाया जाएगा। उत्सव में चूल्हे पर चावल, गुड़, घी, मेवे को मिलाकर खीर पकाई जाएगी।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस