इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बारिश में खस्ताहाल हो चुकी शहर की सड़क पर उभरे गड्ढे ने शनिवार को द्वितीय वर्ष की छात्रा सरिता रणदा की जान ले ली। सरिता भाई राहुल और सहेली सुजाता के साथ स्कूटर से आ रही थी। पानी भरा होने से स्कूटर का अगला पहिया गड्ढे में डूब गया और तीनों एक- दूसरे पर गिर गए। हादसे में सुजाता गंभीर घायल हुई है जिसे निजी अस्पताल में भर्ती किया गया है। भंवरकुआं थाना पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुटी है। टीआइ संतोष दूधी के मुताबिक हादसा रात करीब सवा आठ बजे का है। पड़ियाल (धार) निवासी 21 वर्षीय सरिता पुत्री गणेश रणदा मुंहबोले भाई राहुल और सहेली सुजाता के साथ खंडवा नाका आ रही थी। रिंगरोड (विशेष अस्पताल के पास) बारिश में उभरे गड्ढे में स्कूटर उतर गया और सरिता व सुजाता गिर गई। सिर में चोट आने के कारण सरिता बेहोश हो गई। राहुल उसे निजी अस्पताल लेकर आया लेकिन डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया। टीआइ के मुताबिक सुजाता भी गंभीर घायल है। राहुल को भी मामूली चोट आइ है। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है।

भंवरकुआं टीआई संतोष दूधी मौके पर जांच करने पहुंचे

भंवरकुआं टीआई संतोष दूधी रविवार को घटनास्थल पर जांच करने पहुंचे, इस दौरान गाड़ी चला रहे राहुल को भी पुलिस मौके पर लाई थी। उन्होंने बताया कि किस तरह वो लोग सड़क से जा रहे थे और रास्ते के गड्ढे में उनकी स्कूटर का अगला पहियां चला गया और पीछे बैठीं दोनों छात्राएं गिर गईं।

15 मिनट तक राहगीरों से मदद मांगता रहा छात्र : राहुल ने नईदुनिया को बताया कि सरिता गुजराती कालेज में द्वितीय वर्ष की छात्रा थी और सहेली सुजाता के साथ मूसाखेड़ी (आइडीए मल्टी) में किराए से रहती थी। मैं होलकर साइंस कालेज में पढ़ाई कर रहा हूं और खंडवा नाका रहता हूं। सरिता ने शाम को कहा नल में पानी नहीं आ रहा है। मैं स्कूटर से दोनों को खंडवा नाका स्थित रूम पर लेकर आ रहा था। रिंग रोड पर बारिश के कारण गहरे गड्ढे पड़ चुके हैं। मैं काफी बच बच कर स्कूटर चला रहा था लेकिन पानी भरा होने से गड्ढे का अनुमान नहीं लगा पाया और स्कूटर का पूरा पहिया ही उसमें डूब गया। जैसे ही गाड़ी गड्ढे में उतरी मैं एक तरफ गिर गया। सरिता और सुजाता भी पलट गई। सरिता के बेहोश होने पर करीब 15 मिनट मैं लोगों से मदद मांगता रहा। एक राहगीर रुका और उसने रिक्शावाले को रोका। मैं तत्काल उसे भंवरकुआं थाना के समीप अस्पताल लेकर आया लेकिन पांच मिनट बाद ही डाक्टर ने सरिता को मृत बता दिया। सुजाता को उसी अस्पताल में भर्ती किया गया है।

नईदुनिया ने बार-बार उठाया खराब सड़कों का मुद्दा, लेकिन प्रशासन ने नहीं दिया ध्यान

नईदुनिया ने शहर और आस-पास की खराब सड़कों की खबरें बार-बार प्रकाशित कर प्रशासन का इस समस्या की ओर ध्यान आकृष्ट कराया, लेकिन अधिकारियों से इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। शहर में कई सड़कों पर गड्ढे उभर आए हैं, जिससे दुर्घटना का अंदेशा बना रहता है। तेज बारिश में सड़क पूरी तरह डूब जाने से गड्ढे नहीं दिखते और वाहन अनियंत्रित होकर गिर जाते हैं। हाल ही में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने सड़कों की बदहाली को लेकर बैठक की थी और एक अक्टूबर से इंदौर-भोपाल व अन्य सड़कों की मरम्मत के निर्देश दिए थे।

शहर के आस-पास की सड़कों का यह है हाल, क्लिक कर पढ़ें

तिल्लौर खुर्द से तिंछा फाल, केवड़ेश्वर और रालामंडल की सड़कें बर्बाद

Road In Indore: गड्ढों ने बोझिल बनाया इंदौर से देवास का सफर

इंदौर के बायपास की सर्विस रोड जगह-जगह से खराब

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local