इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वस्थ रहने के लिए पर्वतासन बहुत कारगर आसन है। इसके कईं फायदे भी हैं। पर्वतासन करने के लिए सुखासन या पद्मासन में बैठ जाएं। श्वास लेते हुए दोनों हाथों को सिर के ऊपर ले जाकर मिला लें। अब पूरे शरीर को ऊपर की ओर खींचें। इस अवस्था में 6 सेकंड तक रुकें। श्वास छोड़ते हुए पूर्व स्थिति में आएं। आसन करते समय अपनी दृष्टि को किसी एक बिंदु पर केंद्रित करें। यह आवृति तीन बार दोहराएं। इसके बाद पहले की तरह शरीर को ऊपर की ओर खींचें और पीछे की ओर झुकें तथा श्वास छोड़ते हुए हाथ व सिर को जमीन से लगाएं। तीसरे क्रम पर पहले की तरह ही हाथ ऊपर ले जाएं और जोड़ें। इसके बाद हाथों को खींचते हुए श्वास लेते हुए दाहिनी ओर झुकें तथा श्वास छोड़ते हुए मध्य में आएं। फिर श्वास लेते हुए बाएं हिस्से की ओर झुकें। इस क्रिया को भी तीन-तीन बार करें। इस आसन के पहले भाग को करने से मेरूदंड के सूक्ष्म दोषों का नाश होता है। उदर और कटि की पेशियों में मजबूती आती है। दूसरे और तीसरे चरण से पेट और पेल्विक भाग की मांसपेशियों में खिंचाव आता है तथा आंतरिक अंगों की मालिश होती है।

डॉ. राधेश्याम मिश्रा, योग विशेषज्ञ

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस