इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बचपन में हम विचित्र, साहसिक, और सपने पूरे करने का लक्ष्य रखते हैं। जैसे-जैसे हम बढती उम्र के साथ परिपक्व होते हैं, हम भय और नकारात्मकता को स्वयं पर हावी होने देते हैं और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के मार्ग पर आगे नहीं बढ़ पाते। हमें असफलता के डर को परास्त कर आगे बढ़ने की जरूरत है। कड़ी मेहनत और हार न मानने वाले स्वभाव से अपने लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं।

यह बात भारतीय प्रबंधन संस्थान (आइआइएम इंदौर) के निदेशक डा. हिमांशु राय ने कहीं। संस्थान से संचालित कार्यकारी अधिकारियों के लिए सामान्य प्रबंधन कार्यक्रम (जीएमपीई) बैच-6 का समापन हुआ। कार्यक्रम में प्रोग्राम डीन प्रो. सौम्य रंजन दास, प्रोग्राम कोआडिनेटर प्रो. भवानी शंकर और प्रो. श्रीहरि सोहानी सहित 23 प्रतिभागियों मौजूद थे। प्रो. दास ने कहा कि यह पाठ्यक्रम प्रबंधन में कार्यरत अधिकारियों के कौशल के विकास के लिए रखा है। सभी प्रतिभागियों को निदेशक ने प्रमाण पत्र दिए। खुशबू जैन (प्रथम), प्रदीप कुमार शर्मा (द्वितीय) और मयंक जैन (तृतीय) को पुरस्कार भी दिए। प्रो. भवानी शंकर ने कहा कि एक साल की अवधि वाले पाठ्यक्रम में बैंकिंग, निर्माण, शिक्षा, एफएमसीजी, ई-कॉमर्स जैसे क्षेत्रों के बारे में पढ़ाया जाता है। ताकि बेहतर ढंग से प्रबंधन को समझा जा सकता है।

एनसीसी कैडेट्स को दिया प्रशिक्षण

एजुकेशन विंग ट्रैफिक पुलिस द्वारा लगातार स्कूल, कॉलेज,संस्थाओं में छात्र छात्राओं और नागरिकों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जा रहा है। सोमवार को एमपी बटालियन एनसीसी के वार्षिक कैम्प में कमांडिंग अफसर कर्नल पंकज अत्रि के नेतृत्व में कैडेट्स के लिए सड़क सुरक्षा में युवाओं के योगदान विषय पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया।यातायात सिपाही सुमन्त सिंह कछावा ने कैडेट्स को सड़क सुरक्षा विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की, यातायात संचालन का तरीका यातायात संकेतों की जानकारी प्रेक्टिकल के माध्यम से दी व युवाओं को नियमों का सख्ती से पालन करने की हिदायत भी दी ।इस मौके पर मेजर डॉ संजय सोहनी द्वारा कैडेट्स को सड़क सुरक्षा शपथ दिलाई गई। कैडेट्स ने नियमों के पालन करने व दूसरों से करवाने की शपथ ली।इस कार्यक्रम में 350 एनसीसी कैडेट्स ने भाग लिया।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local