इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि) Crime File Indore। खजराना थाना सीएसपी अनिलसिंह राठौर के कार्यालय में पदस्थ हवलदार जबर सिंह को पूर्वी एसपी आशुतोष बागरी ने लाइन हाजिर कर दिया। हवलदार भूमाफिया के बयान ले रहा था। उस पर गोपनीय सूचनाएं लीक करने का अंदेशा जताया जा रहा है। उधर एसआइटी ने फरार आरोपितों पर चौतरफा घेरना शुरू कर दिया। एसआइटी ने सुरेंद्र संघवी, दीपक मद्दा सहित अन्य भूमाफिया से काल डिटेल आयकर विभाग को सौंपी है।

एसपी (पूर्वी) आशुतोष बागरी के अनुसार एमआइजी और खजराना थाना में दर्ज प्रकरणों में पुलिस 13 आरोपितों को तलाश रही है। संपत्ति और अवैध निर्माण की जानकारी नगर निगम को सौंप दी है। आरोपितों के बैंक खातों, बेनामी प्रापर्टी की जांच के लिए आयकर विभाग को पत्र लिखा है। पुलिस ने मुख्य आरोपित दीपक मद्दा, सुरेंद्र संघवी, ओमप्रकाश धनवानी और केशव नाचानी की काल डिटेल भी निकाली है। आरोपितों के सतत संपर्क में रहे संदेहियों की प्रोफाइल तैयार कर आयकर से साझा की गई है। एसपी के अनुसार कुछ लोग ऐसे चिन्हित किए हैं जिनके आरोपितों से व्यावसायिक रिश्ते हैं। कुछ ऐसे भी हैं जो आरोपितों की विवादित प्रापर्टी की खरीद-फरोख्त और निवेश में लिप्त रहे हैं।

हवलदार को हटाया, सिपाही को बुलाया

एसपी ने हवलदार जबर सिंह के साथ खजराना थाना के सिपाही जीशान को भी लाइन हाजिर कर दिया। जीशान संचार नगर स्थित इस्लाम पटेल के घर व मकानों की वीडियो शूटिंग करने गया था। हालांकि शनिवार को एसपी ने जीशान को थाने बुला लिया। सिपाही को टीआइ दिनेश वर्मा और सीएसपी अनिलसिंह राठौर ने ही भेजा था। सीएसपी के अनुसार कार्रवाई के पहले भी भूमाफिया की शिकायतें हुई थीं। जबर सिंह घोटाले में शामिल कुछ आरोपितों के बयान ले रहा था। इसलिए किसी ने उसकी शिकायत कर दी। उधर नाराज एसपी ने सीएसपी और टीआइ द्वारा गठित कथित स्क्वाड को भी तत्काल भंग करने के आदेश जारी कर दिए।

Posted By: Sameer Deshpande

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags