इंदौर।(नईदुनिया प्रततिनिधि)। इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में हुए आपरेशन में लापरवाही के मामले में स्वास्थ्य विभाग ने दो डाक्टरों की कमेटी से जांच करवाकर मंगलवार को कलेक्टर को रिपोर्ट सौंपी। रिपोर्ट में अस्पताल की जिम्मेदारी और अन्य बिंदुओं पर क्लीनचिट दिए जाने पर आपत्ति लेते हुए कलेक्टर ने पूरी जांच रिपोर्ट को खारिज कर दिया। कलेक्टर ने नए सिरे से जांच कराने के निर्देश दिए। अब कमेटी में दो नए डाक्टरों को शामिल कर जांच कराई जाएगी।

अरबिंदो अस्पताल में हुए भावना उपाध्याय के आपरेशन के मामले में दो डाक्टरों की कमेटी बनाई गई थी। इस कमेटी में शामिल सीमा विजयवर्गीय और शैलेंद्र जैन ने जांच कर रिपोर्ट सीएमएचओ को सौंपी थी। मंगलवार को भावना के पति ब्रजमोहन उपाध्याय ने कलेक्टर से मुलाकात कर कार्रवाई की मांग की। कलेक्टर ने तुरंत सीएमएचओ डा. प्रदीप गोयल से रिपोर्ट तलब की। अवलोकन के बाद कलेक्टर इलैया राजा टी ने पूरी रिपोर्ट को सिरे से खारिज कर दिया। कलेक्टर ने कहा कि रिपोर्ट सही तरीके से तैयार नहीं की गई। मामले में पूरी जांच भी नहीं हुई। उन्होंने ब्रजमोहन से भी पूछा कि आपके बयान हुए कि नहीं। इसके बाद नई कमेटी बनाकर जांच करने के निर्देश दिए। प्रभारी सीएमएचओ डा. प्रदीप गोयल ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश के बाद अब जांच कमेटी में चार डाक्टरों को शामिल कर नए सिरे से जांच कराई जाएगी। इनमें पहली जांच कमेटी के दो डाक्टर सहित दो नए डाक्टर शामिल रहेंगे।

यह था मामला

आड़ा बाजार में रहने वाली भावना उपाध्याय के पेट का आपरेशन विगत माह आयुष्मान योजना में अरबिंदो अस्पताल में कराया गया था। भावना के पति ब्रजमोहन उपाध्याय का कहना है कि आपरेशन महिला रोग विशेषज्ञ नीता नातू ने किया था। आपरेशन के बाद से ही महिला को ब्लीडिंग शुरू हो गई, लेकिन अस्पताल ने आगे इलाज करने से मना कर दिया। अस्पताल ने कहा कि आयुष्मान योजना में आपका इलाज हो चुका है। अब आगे इलाज कराने पर रुपये जमा कराने होंगे। इसके बाद उन्होंने अरबिंदो से छुट्टी करवा कर बंसल अस्पताल में आपरेशन करवाया। इसके लिए 70 हजार की राशि भी चुकाई गई।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close