इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सोमवार शाम को हुई झमाझम बारिश से शहर का औसत बारिश का आंकड़ा 50 इंच के करीब पहुंच गया। सोमवार को दिन में अच्छी धूप निकली लेकिन शाम को अचानक बादल छा गए और करीब 4 बजे बारिश शुरू हो गई। कहीं धीमी तो कहीं तेज बारिश ने पूरे शहर को तरबतर कर दिया। रीगल क्षेत्र स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सेंटर पर 1 इंच बारिश दर्ज की गई वहीं एयरपोर्ट पर डेढ़ इंच बारिश दर्ज की गई। इससे शहर में बारिश का आंकड़ा 49.8 इंच पहुंच गया।

मौसम विभाग के मुताबिक इंदौर में अगले दो दिन तक इसी तरह हल्की से मध्यम बारिश होगी। 25 सितंबर को मानसून का सिस्टम बंगाल की खाड़ी में सक्रिय होगा। इसके कारण इंदौर में 26 सितंबर की शाम या 27 सितंबर की सुबह से अच्छी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है। सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 31 डिग्री दर्ज किया जाएगा। न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 22.7 डिग्री दर्ज किया गया।

बारिश के कारण खेत में कटी फसल भी डूबी

इंदौर जिले में बारिश के कहर के कारण पहले ही फसल बर्बाद हो चुकी है। वहीं सोमवार को हुई भारी बारिश के कारण खेत में काटकर रखी फसल भी डूब गई। खेतों में पानी भरने से जो थोड़ी-बहुत फसल बची थी वह भी खराब हो गई है। नुकसान की भरपाई के लिए अब तक कई किसानों के खेत में पटवारी व तहसीलदार पहुंचे ही नहीं हैं। किसानों को चिंता है कि यदि सही ढंग से सर्वे नहीं होगा तो उन्हें मुआवजा कैसे मिलेगा।

ग्राम लसूड़िया मोरी के दिलीप सिंह पंवार ने बताया कि दो दिन से बारिश नहीं होने के कारण बची-खुची फसल काटकर किसानों ने खेत में सूखने के लिए रखी थी। लेकिन सोमवार को हुई बारिश के कारण वह भी डूब गई। अब यह फसल भी पूरी तरह खराब हो जाएगी। किसान जितेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि राजस्व विभाग केवल सोयाबीन की फसल का ही सर्वे कर रहा है। उड़द, मूंग, मक्का, मूंगफली, कपास, मिर्च व सब्जियां भी बोई गई थीं। ये भी खराब हुईं हैं।

नगर निगम कंट्रोल रूम के मुताबिक नंदबाग क्षेत्र में खेतों और नाले का पानी लोगों के घरों में घुस गया। इसके अलावा और कहीं से कोई शिकायत नहीं मिली है।