इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Higher Education Indore। मार्च 2020 से बंद विश्वविद्यालय व कालेजों में फिर एक बार छात्र-छात्राओं की चहल-पहल नजर आएगी। शासन ने सावधानी के साथ शैक्षणिक संस्थान खोले जाने के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है। 15 सितंबर यानी बुधवार से विवि, सरकारी व निजी कालेजों में पचास प्रतिशत उपस्थित के साथ आफलाइन कक्षाएं संचालित हो सकेंगी। उच्च शिक्षा मंत्री डा. मोहन यादव ने गुरुवार को इस संबंध में भोपाल से आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के अनुसार कालेज में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राएं, शिक्षक-स्टॉफ को वैक्सीन सर्टीफिकेट साथ रखना अनिवार्य होगा। कालेजों को शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए कक्षाओं में सीमित संख्या में विद्यार्थियों के बैठने की व्यवस्था करना होगी। सरकारी और निजी कालेजों ने भी इस संबध में तैयारियां पूरी कर ली हैं। होस्टल, मैस, लाइब्रेरी खोलने के निर्देश दिए हैं।

उच्च शिक्षा मंत्री यादव ने कहा कि कालेजों को आनलाइन-आफलाइन दोनों कक्षाएं संचालित करना होगी। वे खुद शेड्यूल बनाएं। विभाग ने विद्यार्थियों के अध्ययन के लिए कालेज व विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी भी शुरू करने की बात कहीं। फिलहाल पंजीकृत विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (डीएवीवी) की सेंट्रल लाइब्रेरी के प्रभारी डा. राजीव गुप्ता ने कहा कि शारीरिक तापमान जांचने के लिए थर्मल गन और हाथों को सैनिटाइज करने की व्यवस्था रखी है। यहां तक शारीरिक दूरी बनाकर बैठक व्यवस्था की गई। फिलहाल आनलाइन किताबें भी विद्यार्थियों को प्रदान कर रहे हैं।

होस्टल और मैस भी होंगे शुरू

बाहर से पढ़ाने आने वाले विद्यार्थियों का ध्यान भी सरकार ने रखा है। विश्वविद्यालय व कालेजों के होस्टल-मैस शुरू करने की अनुमति दी है ताकि छात्र-छात्राओं को परेशानी न हो। डीएवीवी में दस होस्टल संचालित होते है, जिसमें चार बायज और छह गर्ल्स होस्टल शामिल है। जहां 1800 विद्यार्थियों की व्यवस्था कर रखी है। मगर पचास प्रतिशत विद्यार्थियों की मौजूदगी में होस्टल संचालित करना है। विभाग ने होस्टल में चरणबद्ध रूप से शुरू करने की रूपरेखा बनाई है। प्रथम चरण में स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर के छात्रों के लिए होस्टल शुरू होंगे। परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजेशन एवं सभी विद्यार्थी की थर्मल स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जाएगी। डायनिंग हॉल, रसोई, स्नानागार और शौचालय की स्वच्छता की सतत निगरानी होगी। होस्टल में विश्वविद्यालय/कालेज के स्टॉफ के अतिरिक्त अन्य लोगों का प्रवेश वर्जित रहेगा।

ये कहना है कालेजों का

- होलकर साइंस कालेज के प्राचार्य डॉ. सुरेश सिलावट का कहना है कि यूजी-पीजी कोर्स के छात्र-छात्राओं के लिए कालेज में अलग-अलग दिन कक्षाएं लगाई जाएगी। सभी क्लास रूम तैयार कर दिए है। लाइब्रेरी और कंप्यूटर व साइंस लैब तैयार कर ली है।

- ओल्ड जीडीसी कालेज के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. एमडी सोमानी का कहना है कि कालेज में सभी को सर्टीफिकेट लाना अनिवार्य है। इसके लिए विद्यार्थियों को मोबाइल पर मैसेज भेज दिए हैं। स्टॉफ को भी दिन में दो मर्तबा क्लास रूम-कालेज परिसर को सैनिटाइज करने को कहा है।

- जैन दिवाकर कालेज के संचालक डॉ. नरेंद्र धाकड़ का कहना है कि फर्स्ट, सेकंड और फाइनल ईयर के विद्यार्थियों को सप्ताह में दो-तीन दिन बुलाया जाएगा। आफलाइन-आनलाइन क्लास का शेड्यूल बन चुका है।

- रैनेसा कालेज के प्रशासनिक अधिकारी ललित सिंह जादौन ने कहा कि आनलाइन-आफलाइन क्लासेस एक साथ संचालित होगी। क्लास में आनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था भी की गई है।

- अरिहंत कालेज की सीईओ कविता कासलीवाल का कहना है कि लाइब्रेरी, कंप्यूटर लैब, क्लास रूम में अलग-अलग समय विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। प्रत्येक कोर्स के विद्यार्थियों के लिए आनलाइन-आफलाइन क्लासेस का शेड्यूल बनाया है,जो वाट्सएप पर विद्यार्थियों को भेजा है।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local