इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, MP Honey Trap Case। हनी ट्रैप मामले की आरोपित श्वेता विजय जैन को मानव तस्करी के मामले में हाई कोर्ट से राहत नहीं मिली। कोर्ट ने उसकी तरफ से प्रस्तुत जमानत आवेदन यह कहते हुए खारिज कर दिया कि मामला एक महिला की अस्मिता से जुड़ा हुआ है। आरोपित के खिलाफ अभियोजन के पास पर्याप्त साक्ष्य हैं। उसे जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता।

गौरतलब है कि करीब पौने दो साल पहले नगर निगम इंदौर के तत्कालीन इंजीनियर हरभजनसिंह ने पलासिया पुलिस थाने पर शिकायत दर्ज कराई थी कि कुछ महिलाएं उसे अश्लील वीडियो के नाम पर ब्लैकमेल कर रही हैं। ये महिलाएं वीडियो सार्वजनिक करने की धमकी देकर उससे तीन करोड़ रुपये मांग रही हैं। मामले की पड़ताल करते हुए पुलिस आरोपित महिलाओं श्वेता विजय जैन और अन्य तक पहुंची और उन्हें गिरफ्तार किया। गिरफ्तार की गई इन्हीं आरोपितों में से एक महिला आरोपित ने पुलिस को बताया कि श्वेता विजय जैन उसे पढ़ाई में मदद के नाम पर गांव से भोपाल लेकर आई थी और यहां उसने उसे जबरन इस काम में लगा दिया। उसने उसके अश्लील वीडियो भी बनाए और इन्हीं की मदद से वह ब्लैकमेल करने लगी। इस पर पुलिस ने आरोपित श्वेता विजय जैन के खिलाफ मानव तस्करी की धाराओं में अलग से प्रकरण दर्ज कर लिया। श्वेता चार नवंबर 2019 से जेल में है। उसने जमानत के लिए हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। उसके वकील ने कोर्ट में तर्क रखा कि उसे गलत तरीके से फंसाया गया है।

श्वेता पर आरोप लगाने वाली महिला के पिता खुद स्वीकार कर चुके हैं कि पुलिस के अधिकारियों ने उनसे कहा था कि वे एफआइआर पर साइन कर देंगे तो हनी ट्रैप मामले में उनकी बेटी को फायदा होगा। श्वेता के वकील ने यह तर्क भी रखा कि वह 42 वर्षीय महिला है और प्रकरण की सुनवाई पूरी होने में लंबा समय लगने की संभावना है। ऐसे में जमानत का लाभ दिया जाना चाहिए। कोर्ट ने तर्क सुनने के बाद जमानत याचिका खारिज कर दी। तीन पेज के आदेश में कोर्ट ने कहा कि श्वेता विजय जैन पर गंभीर आरोप हैं। प्रकरण में दो मोबाइल फोन, 14 लाख 70 हजार रुपये, 160 जीबी की एक हार्ड डिस्क, पांच पैन ड्राइव, 27 लाख रुपये से ज्यादा मूल्य के जेवर जब्त हैं। ये सबूत प्रथम दृष्टत: किसी को आरोपित ठहराने के लिए पर्याप्त हैं। मामला एक महिला की अस्मिता से जुड़ा हुआ है। आरोपित पर आरोप है कि उसने एक मासूम युवती को इस अनैतिक काम में लगाया। उसे जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local