Health Tips: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मुंहासे एक ऐसी समस्या है जिससे हर युवा जूझता है। मौसम चाहे कोई भी हो मुंहासे हो ही जाते हैं। मुंहासे होने की वजह कई हो सकती है। बदलती जीवनशैली, बिगड़ा खानपान, कास्मेटिक्स का अधिक उपयोग, त्वचा को साफ नहीं रखने से न केवल मुंहासे अधिक होते हैं बल्कि कई बार तो उसके निशान भी रह जाते हैं और कई तरह की परेशानियां भी होती हैं।

आहार व पोषण विशेषज्ञ डा. संगीता मालू के अनुसार यदि कुछ बातों पर ध्यान दिया जाए तो मुंहासों के होने, उसकी संख्या और उससे होने वाली परेशानियों पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है। मुंहासे त्वचा संबंधित रोग है। त्वचा में उपस्थित सीबीसियस ग्लैंड व रोमछिद्र में गड़बड़ी होने के कारण मुंहासे होते हैं। मुंहासे होने की वजह समय पर आहार नहीं करना, स्टार्च युक्त भोजन ज्यादा करना, शकर व तले हुए खाद्य पदार्थ ज्यादा खाना, चाय-काफी का ज्यादा सेवन, तंबाकू, धूम्रपान या अल्कोहल का सेवन, कब्ज होना, शरीर को साफ नहीं रखना, रक्त में विकार होना, शरीर से अपशिष्ट पदार्थों का बाहर नहीं निकलना, हार्मोन्स का असंतुलित होना आदि कारणों से मुंहासे अधिक होते हैं।

मुंहासों की समस्या को दूर करने के लिए फल, सब्जी और सलाद का पर्याप्त मात्रा में सेवन करें। दिन में दो बार अंकुरित अनाज खाएं। दिनभर में करीब 10 से 12 गिलास पानी पिएं। पानी इतना पिएं कि प्यास महसूस न हो और पेशाब पीले रंग का न आए। यदि कब्ज की समस्या है तो उसे भी दूर करें क्योंकि पेट साफ नहीं होने पर भी शरीर के विशैले व अपशिष्ट बाहर नहीं निकलते और वह भी मुंहासों की बड़ी वजह है। डिब्बबंद खाद्य पदार्थ नहीं खाएं। साफ्ट ड्रिंक, आइसक्रीम, केंडिस, जंकफूड, फास्टफूड, अधिक कार्बोहाइड्रेट युक्त व तले-गले खाद्य पदार्थ न खाएं। नमक, अचार व मिर्च-मसालों का उपयोग कम से कम करें। इसके अलावा शारीरिक श्रम भी करें ताकि पसीने के माध्यम से शरीर के विशैले तत्व बाहर निकल जाएं।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close