Indore News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर के महालक्ष्मी नगर में आवासीय भूखंडों पर व्यावसायिक गतिविधियां बढ़ती ही जा रही हैं। आवासीय भूखंडों पर होटल और होस्टल बनते जा रहे हैं। इससे रहवासियों का रहना मुश्किल होता जा रहा है। एक तो आवासीय भूखंडों पर अवैध तरीके से होटल और होस्टल का निर्माण कर लिया गया है और ऊपर से कुछ होटलों में अनैतिक गतिविधियां संचालित हो रही हैं। रहवासी संघों की ओर से विधायक और नगर निगम आयुक्त को लगातार शिकायतों के बाद भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो पा रही है।

रहवासियों के जोरदार विरोध के बाद नगर निगम चुनाव के बाद एमआर-5 में भूखंड नंबर-164 पर अवैध तरीके से बने होस्टल को तोड़ा गया लेकिन इसके बाद से सारी कार्रवाई ठप है। वार्ड-36 और 37 में आने वाली लगभग 40 कालोनियों को लेकर रहवासी महासंघ बनाया गया है। महासंघ के महासचिव संदीप जोशी ने बताया कि महालक्ष्मी नगर और चिकित्सक नगर में आवासीय भूखंडों पर लगभग 50 होटल और होस्टल बन चुके हैं। इन अवैध निर्माणों को प्रश्रय देने में कुछ तथाकथित नेताओं का भी हाथ रहा है। यहां चलने वाली अनैतिक गतिविधियों को लेकर हम लगातार विरोध कर रहे हैं।

नए पार्षद से हमें उम्मीद है कि वे इस समस्या को दूर कराएंगे। यदि नगर निगम ने इन अवैध निर्माणों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की तो हम आंदोलन भी करेंगे। महालक्ष्मी नगर रहवासी संघ के सचिव ब्रजेश पचौरी का कहना है कि महालक्ष्मी नगर के ए और आर सेक्टर के बीच सड़क पर भी लोग अतिक्रमण करते जा रहे हैं और व्यावसायिक गतिविधियां चला रहे हैं। महालक्ष्मी नगर से नरीमन पाइंट, बालाजी हाइट्स टाउनशिप की ओर जाने वाली अधूरी बनी सड़क पर होटल और कई दुकानें खुल गई हैं।जिस होस्टल का अवैध निर्माण तोड़ा गया था, उसे सील करने के बावजूद वह चल रहा था। कुछ अन्य अवैध निर्माणों को लेकर हमने कोर्ट में भी केस दायर किया हुआ है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close