इंदौर। Immunity Booster कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बेशक अभी कोई वैक्सीन नहीं बनी है, लेकिन हम अपने आहार और आदतों के माध्यम से इस संक्रमण की चपेट में आने से बच सकते हैं। कोरोना से बचने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता का बेहतर होना जरूरी है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए व्यायाम के साथ संतुलित और पौष्टिक आहार को अपनाएं। पौष्टिक आहार में पनीर, सोयाबीन, दालें, दूध और दूध से बने पदार्थ जैसे दही, चक्का, छाछ अपनाएं। भारतीय परिवेश में एक स्वस्थ वयस्क महिला को 45 से 50 ग्राम और स्वस्थ वयस्क पुरुष को 55 से 60 ग्राम प्रोटीन प्रतिदिन खाना चाहिए। प्रोटीन की पूर्ति के लिए सूखे मेवे में बादाम व अखरोट का सेवन करें। यदि सूखे मेवे नहीं खा सकते तो चने और मूंगफली का सेवन करें। हल्की भूख लगने पर मूंगफली या चने खाना बेहतर विकल्प हो सकता है। यदि आप मांसाहारी हैं तो अंडे, चिकन या मटन का भी सेवन कर सकते हैं। यह भी प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत हैं। ऑर्गन के क्रियान्वयन और मसल्स के लिए प्रोटीन का सेवन बहुत जरूरी है।

मसालों से भी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, लेकिन मसालों का सेवन सोच-समझकर करें। अधिक मात्रा में मसालों का सेवन करने से भी शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। चूंकि शहर अब पूरी तरह से अनलॉक हो चुका है, इसलिए और भी ज्यादा सावधानियां रखने की जरूरत है। फल-सब्जी खरीदते वक्त सावधानी रखें, क्योंकि वे भी कोरोना के वाहक हो सकते हैं। फल-सब्जी लेने के बाद उन्हें गुनगुने पानी में नमक, सोडा या पोटेशियम परमेग्नेट युक्त पानी में थोड़ी देर डालकर रखें और बाद में साफ पानी से धोकर इस्तेमाल में लाएं। घर के बाहर कुछ भी खाने से बचें और हाईजीन का विशेष ध्यान रखें। खानपान और स्वच्छता के साथ योग, प्राणायाम, हल्का व्यायाम, सीढ़ी चढ़ना-उतरना करें, क्योंकि इससे शरीर को अंदरूनी ताकत मिलती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। - विनीता जयसवाल, अध्यक्ष, इंदौर डायटेटिक एसोसिएशन एमपी चैप्टर

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local