इंदौर। Indore City Roads बीआरटीएस कॉरिडोर पर सबसे संकरे हिस्से एलआईजी से नौलखा चौराहा के बीच एलिवेटेड रोड की योजना को पीडब्ल्यूडी ने फाइनल कर दिया है। योजना है कि एलिवेटेड रोड बनने के बाद भी बस लेन और बस स्टेशन को यथावत यानी नीचे ही रखा जाए। रोड के बीच में स्पान बनाकर फोर लेन एलिवेटेड रोड बनाया जाए, जिसमें सीधे (थ्रू) जाने वाला ट्रैफिक जा सके। पीडब्ल्यूडी ने एलिवेटेड रोड के निर्माण की समय सीमा दो साल तय की है। प्रोजेक्ट की लागत करीब 350 करोड़ रुपए है। पहले चरण में सिविल वर्क के लिए 272.66 करोड़ रुपए के टेंडर बुलाए गए हैं। बाद में यूटिलिटी शिफ्टिंग और लाइट आदि कार्यों पर बची राशि खर्च की जाएगी।

सब-वे नहीं होगा प्रभावित

पीडब्ल्यूडी ब्रिज सेल के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर गिरजेश शर्मा ने बताया कि एलिवेटेड रोड एमआर-9 चौराहा के एलआईजी की तरफ से बनेगा और नौलखा चौराहे के आगे होलकर साइंस कॉलेज के पहले खत्म होगा। कॉलेज के पास बना सब-वे प्रोजेक्ट से प्रभावित नहीं होगा। पीडब्ल्यूडी ने ऐसी डिजाइन बनाई है कि एलिवेटेड रोड के कारण किसी बस स्टेशन को हटाना या छोटा-बड़ा नहीं करना पड़ेगा। इसके लिए ब्रिज की गर्डर ज्यादा लंबाई की रखी जाएंगी। एलिवेटेड रोड की चौड़ाई 15.50 मीटर रहेगी, यानी आने-जाने के लिए दो-दो लेन जगह उपलब्ध रहेगी। एलआईजी से नौलखा के बीच एलिवेटेड रोड की लंबाई करीब छह किलोमीटर होगी जबकि ग्रेटर कैलाश रोड, ढक्कनवाला कुआं मेन रोड और शिवाजी प्रतिमा जंक्शन पर एग्रीकल्चर कॉलेज की तरफ की तीनों भुजाओं की कुल लंबाई करीब एक किमी होगी।

एलिवेटेड ब्रिज बनने के बाद चौड़ी होगी बस लेन

शर्मा के मुताबिक एलिवेटेड रोड के पियर (पिलर) ढाई मीटर के होंगे और कैंटीलीवर आकार का एलिवेटेड रोड उन्हीं पर टिका होगा। चूंकि बीच में पियर के कारण बस लेन की चौड़ाई प्रभावित होगी, इस वजह से बस लेन को दोनों तरफ एक से सवा मीटर तक चौड़ा किया जाएगा। एलिवेटेड रोड बनने के बाद बस लेन की रेलिंग को और आगे बढ़ाया जाएगा। पीडब्ल्यूडी की योजना है कि वह ठेकेदार कंपनी से 300-300 मीटर लंबाई में काम करवाए। जिस हिस्से में काम होगा, वहां निर्माण के दौरान बस लेन खोली जाएगी जिसे बाद में नई चौड़ाई के हिसाब से फिर बना दिया जाएगा।

मार्च तक ठेका सौंपने की तैयारी

जनवरी के दूसरे पखवाड़े में पता चलेगा कि कितनी कंपनियों ने एलिवेटेड रोड बनाने में रुचि ली है। चुनी गई कंपनी का प्रस्ताव शासन के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। इसके बाद मार्च तक उसे ठेका सौंपने की तैयारी है, वरना दोबारा टेंडर बुलाए जाएंगे।

इसलिए जरूरी है एलिवेटेड रोड

-बीआरटीएस कॉरिडोर पर एलआईजी चौराहे से नौलखा चौराहे के बीच 104 फीट चौड़ी सड़क है। इसके अलावा एलआईजी से निरंजनपुर और नौलखा से राजीव गांधी प्रतिमा तक का हिस्सा 200 फीट चौड़ा है।

- ट्रैफिक जाम की खास समस्या एलआईजी चौराहे से नौलखा के बीच ही है, क्योंकि इसी हिस्से में शहर की 15 से ज्यादा महत्वपूर्ण सड़कें मिलती हैं। इन सड़कों पर मुड़ने वाले या वहां से बीआरटीएस कॉरिडोर पर आने वाले वाहनों के कारण सीधे जाने वाले वाहन ट्रैफिक जाम या सिग्नल पर फंसते हैं।

-एलआईजी से नौलखा के बीच बस लेन के कारण मोटर व्हीकल लेन (आम वाहन) छोटी है। संकरे हिस्से और उस पर दोगुना भार के कारण निजी वाहनों में सवार लोगों को न केवल रेंगकर चलना पड़ता है बल्कि बार-बार ट्रैफिक सिग्नल पर देर तक ठहरना पड़ता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket