Indore Court News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर के हुकमचंद मिल मामले में नगर निगम मजदूरों के भुगतान की योजना आज कोर्ट को बताएगा या एक बार फिर उसके वकील कोर्ट से इसके लिए समय लेगा, यह कुछ ही देर में स्पष्ट हो जाएगा। मामले को लेकर चल रही याचिका में मंगलवार को सुनवाई होना है।

गौरतलब है कि पिछली सुनवाई पर नगर निगम ने कोर्ट को बताया था कि परिषद की बैठक में हुकमचंद मिल की जमीन और मजूदरों के भुगतान को लेकर प्रस्ताव पारित हो चुका है। इसे स्वीकृति के लिए शासन को भेज गया है। वहां से हरी झंडी मिलते ही हम इसे कोर्ट के समक्ष रख देंगे। मंगलवार को निगम को बताना है कि शासन से स्वीकृति मिली या नहीं। अगर नगर निगम को शासन से स्वीकृति मिली तो निगम प्रस्ताव कोर्ट के समक्ष रख देगा। इसके बाद स्पष्ट होगा कि मजदूरों को कब-कब और कैसे भुगतान होगा। हुकमचंद मिल 12 दिसंबर 1991 को बंद हो गया था। इसके बाद से मिल के 5895 मजदूर और उनके स्वजन अपने बकाया भुगतान के लिए भटक रहे हैं। मिल की जमीन बेचकर ही मजदूरों का बकाया भुगतान किया जाना है। मंगलवार को होने वाली सुनवाई के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि मिल के मजदूरों का इंतजार फिलहाल खत्म होगा या नहीं।

हाईवे किनारे खुली शराब दुकानों को लेकर भी होगी सुनवाई

इंदौर। हाई वे किनारे चल रही शराब दुकानों के खिलाफ हाई कोर्ट में चल रही जनहित याचिका में मंगलवार को सुनवाई होना है। याचिका में कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशानुसार हाईवे से 500 मीटर की परिधि में शराब दुकान नहीं खोली जा सकती है, लेकिन प्रदेश में हाईवे से लगकर शराब दुकानें खुली हैं। शराब दुकानों के बोर्ड भी ऐसी जगह लगे हैं, जहां से इन्हें आसानी से देखा जा सकता है। याचिका में शराब दुकानें हाईवे से 500 मीटर दूर खोलने और दुकानों के बोर्ड मुख्य मार्ग से हटाने की गुहार लगाई गई है। पिछली सुनवाई पर शासन ने कोर्ट के समक्ष तर्क रखते हुए याचिका निरस्त करने की गुहार लगाई थी। मंगलवार को इसी मुद्दे पर सुनवाई होना है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close