Indore Crime News: इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। शेल्टर होम से भागी बांग्लादेशी युवती को महिला थाना पुलिस ने शनिवार रात सूरत से पकड़ लिया। मानव तस्करों से मुक्त करवाई इस युवती को गवाही के लिए सुरक्षित जगह रोका गया था। बांग्लादेशी तस्कर मुनीर ने वकील के माध्यम से युवतियों से संपर्क साधा और टैक्सी भेज फरार करवा दिया। पुलिस अभी भी 9 युवतियों की राजस्थान व मुंबई में तलाश रही है।

महिला थाना पुलिस के मुताबिक आरोपित मुनीर उर्फ मुनीरुल को रिमांड पर लिया गया है। पूछताछ में बताया बाणगंगा वृद्धाश्रम(शेल्टर होम) से फरार हुई युवतियां भी उसके संपर्क में थी। बल्कि कईं लड़कियां उसके इशारे पर ही भागी है। करीब 11 महीने पूर्व केस दर्ज होने पर उसने मोबाइल नंबर बदल लिए और सूरत व मुंबई में फरारी काटी।

इसी दौरान मोहित गेस्ट हाउस से मुक्त करवाई युवतियों के शेल्टर होम जाने की सूचना मिलने पर वह इंदौर आया और एक वकील के माध्यम से युवतियों से संपर्क साधा। मुनीर ने इंटरनेट कॉलिंग कर भागने की रुपरेखा भी बना दी। मुनीर ने एक टैक्सी चालक को भरोसे में लिया और खाते में आन लाइन रुपये जमा करवा दिए।

मौका देख युवतियां शेल्टर होम से भाग गई और टैक्सीवाला कड़ोदरा (गुजरात) बायपास पर छोड़ आया। यहां मुनीर मिला और दलालों को बेच दिया। इस खुलासे के बाद पुलिस सूरत पहुंची और एक युवती को बरामद कर लिया। उसने पूछताछ में बताया शेष युवतियां मुंबई और राजस्थान में देहव्यापार कर रही है।

ड्रग्स के लिए बेचेन रहती थी तस्करों से छूटी युवतियां

पूछताछ में पता चला मुनीर व अन्य दलालों ने युवतियों को ड्रग्स की लत लगा दी थी। मुक्त होने के बाद शेल्टर होम में तो ठहरा दिया लेकिन ड्रग्स के लिए बेचेन रहती थी। मुनीर ने फोन पर भागने की सलाह दी और युवतियां भाग गई।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local