इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Indore Crime News। एसटीएफ की इंदौर इकाई ने वन्य जीवों की तस्करी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। चार आरोपितों को गिरफ्तार करके उनके पास से पांच रेड सेंट बोआ यानी दो मुंह के सांप बरामद किए हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में बरामद किए गए दो मुंह के सांपों की कीमत करीब आठ से दस करोड़ रुपये बताई गई है।आरोपित विष्णु पिता बच्चू माली निवासी कांटोफोड (देवास), राहुल पिता कैलाश घावरी निवासी कांटाफोड (देवास), दयाराम पिता सेकड़िया भार्गव निवासी खुलचिपुरा (बागली) और हरिओम पिता बाबूलाल हिरवा निवासी रहमानपुरा (सतवास) हाल मुकाम शिवदर्शन नगर मूसाखेड़ी से पूछताछ में अन्य जानकारी भी मिलने की संभावना है।

एसटीएफ इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक मनीष खत्री के अनुसार मुखबिर से जानकारी मिली थी कि शुक्रवार को राहुल घावरी और हरिओम हिरवान मोटर साइकल एमपी-41-एनए-8846 और एमपी-09-वीके-4815 से बैग में दो मुंह के पांच सांप लेकर इंदौर आ रहे हैं। जो इन वन्य जीवों के बदले बड़ी रकम वसूलने की तैयारी में है। एसटीएफ ने खुडैल के पास नाकाबंदी करते हुए संदेहियों की तलाशी ली गई। इस दौरान आरोपित पुलिस वाहन को देखकर भागने लगे। जिन्हें पीछा कर पकड़ लिया गया। इनके पास से पांच दो मुंह के सांप मिले।

उक्त सांपों का उपयोग विभिन्न् प्रकार की तांत्रिक क्रिया तथा दवाइयां बनाने में किया जाता है। आरोपितों को पकड़ने में निरीक्षक सहर्ष यादव, एएसआइ झनकलाल पटेल, श्रीकृष्ण बोर्डे, हैड कांस्टेबल जितेंद्र चौहान, आरक्षक सतीश चौहान, रवींद्रसिंह, ओमवीर सिंह, राहुल जाट, प्रशांत परिहार, सचिन भदौरिया, हेमंत वर्मा, शुभम कटारे, विकास भूरिया, भूपेंद्र गुप्ता, सुभाष कोठे की सराहनीय भूमिका रही।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local