Indore Crime News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। एसटीएफ पुलिस नें एसटीएफ के फर्जी उपनिरीक्षक (एसआइ) को युवाओं के साथ क्राइम ब्रांच व एसटीएफ विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले आरोपित रोहित शर्मा को गिरफ्तार किया है।आरोपित इंदौर के करीब 30 लोगों से नौकरी के नाम करीब दो लाख रुपये की ठगी कर चुका है।आरोपित के पास से नकली पिस्टल (लाइटर), दो वायरलेस सेट (वाकी टाकी), पुलिस की वर्दी और नकली आइडी जब्त की है।आरोपित 27 अक्टूबर तक रिमांड पर है, पूछताछ में कई और मामलों का खुलासा हो सकता है।

एटीएफ एसपी मनीष खत्री ने बताया कि गोमटगिरी में रहने वाले 29 वर्षीय आरोपित रोहित उर्फ श्याम प्रेमी पुत्र नागेश शर्मा के खिलाफ 23 अक्टूबर 2021 को भरत परमार व दिव्यांशु मौर्य ने शिकायत की थी।आवेदन में बताया कि आरोपित रोहित ने एक से आठ हजार और दूसरे से 10 हजार रुपये व अन्य दस्तावेज लेकर नौकरी लगवाने का कहकर लिए थे। आरोपित मूल रूप से जिला मंदसौर नारायणगढ़ का रहने वाला है।

एसटीएफ ने मामले में जांच की तो पता चला कि बदमाश गोम्‍मटगिरी में रहता है। उसकी तलाश में पुलिस अरिहंत नगर पहुंची तो वहां रोहित पुलिस की टोपी लगाए, हाथ में काले रंग का वायरलेस, कमर में पिस्टल लगाए हुए घर के बाहर घूम रहा था।आरोपित से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह एसटीएफ में उपनिरीक्षक है। रोहित ने आइडी कार्ड भी दिखाया।इसके बाद टीम ने तुरंत आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित से आइडी कार्ड के बारे में पूछा तो उसने कबूल किया कि आइडी फर्जी है। वहीं अन्य सामग्री भी नकली पाइ गई।

आनलाइन खरीदा था वायरलेस

आरोपित से पूछताछ की तो बताया कि उसने वायरलेस फोन एक कमर्शियल वेबसाइट के माध्यम से आनलाइन खरीदा था।पुलिस की टोपी और पिस्टल बाजार से खरीदी थी। इसे दिखाकर ही वह लोगों को भरोसा दिलाता था कि वह एसटीएफ में अधिकारी है। उसकी विभाग में अच्छी पकड़ है।कम्प्यूटर आपरेटर व लिखा पढ़ी के काम में युवाओं की जरूरत है। इसके बदले वह आठ से 10 हजार रुपये ले लेता था।नकली फाइलें भी तैयार कर लेता था।दिखाने के लिए कि उसकी फाइल विभाग में पहुंचा दी गई है।

उज्जैन में भी कर चुका धोखाधड़ी

एएसपी ने बताया कि रोहित 2020 में भी एसटीएफ का अधिकार बनकर उज्जैन में भी इसी तरह से करीब 20 युवाओं को नौकरी के नाम पर ठग चुका है। एसटीएफ ने शिकायत के बाद आरोपित को गिरफ्तार किया था। मामले में भोपाल में प्रकरण भी दर्ज किया गया था।एक माह में ही उसने जमानत करवा ली।छूटने के बाद वह इंदौर के आसपास के ग्रामीण इलाकों के युवाओं के साथ ठगी करने लगा।एसपी ने बताया कि आरोपित की लगातार शिकायतें आ रही हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local