Indore Crime News : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर की तेजाजी नगर थाना पुलिस ने पांच सदस्यीय डकैत गिरोह को पकड़ा है। गिरोह का एक सदस्य इंदौर में रह कर सूने मकान और गोदाम के फोटो भेज देता था। आरोपित कोडवर्ड में खबरी को "गोड़िया" बुलाते हैं। पुलिस को तीन बदमाशों की अभी तलाश है जो देवास और धार में सक्रिय हैं।

एडिशनल डीसीपी जोन-1 जयवीरसिंह भदौरिया के मुताबिक गिरफ्तार आरोपितों के नाम मुकेश उर्फ अश्विनी बिजू भूरिया (काठी), कैलाश थाऊसिंह रावत (जामला), मोहन रमेश मंडलोई (बधानिया), राजेश उर्फ राकेश रमेश चौहान (भावरपुरा) और भारत उर्फ सुनील गमरसिंह (जामला) हैं। आरोपित तेजाजी नगर थाना क्षेत्र स्थित खंडवा रोड पर पेट्रोल पंप को लूटने आए थे। पुलिस ने आरोपितों से पिस्टल, कटर, फालिया और जीप बरामद की है।

मोबाइल घर रखकर आते थे बदमाश - टीआइ आरडी कानवा के मुताबिक आरोपित मोहन मंडलोई प्रजापत नगर (चंदन नगर) में किराए के मकान में रहता था। वह सूने मकान और गोदामों की रैकी करता और गिरोह के सदस्यों को फोटो भेज देता था। बदमाश उस मकान को देखने आते और डकैती व चोरी की साजिश करते थे। बदमाशों को पता था कि पुलिस मोबाइल नंबर से ढूंढ लेती है इसलिए फोन भी घर रख कर आते थे। एक फोन लेकर आते थे जो रिश्तेदार का होता था। जांच में पता चला कि आरोपितों ने देवास नाका के गोदाम और आराधना नगर के एक मकान को डकैती के लिए चिन्हित कर लिया था। कुछ अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी मिली है जो अभी फरार हैं।

कोचिंग सेंटर के एडमिन ने फांसी लगाई

इंदौर। निजी कोचिंग सेंटर के एडमिन करण कुमार भारती ने फांसी लगाकर जान दे दी। मूलत: अररिया (बिहार) निवासी करण छोटी खजरानी में किराए के मकान में रहता था। पुलिस ने सुसाइड नोट बरामद किया है जिसमें पत्नी खुशबू पर आरोप लगाए हैं। एएसआइ मुनेंद्रसिंह कुशवाह के अनुसार भाई राजा को संबोधित करते हुए लिखे पत्र में करण ने पत्नी खुशबू को उसका चेहरा न दिखाने की अपील की है। उसका ढाई साल का पुत्र भी है जिसकी परवरिश के लिए पिता ओमप्रकाश को लिखा है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close