Indore Crime News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मुनाफे का झांसा देकर इंदौर का ज्वेलर अक्षय सोनी करोड़ों रुपये का सोना, हीरे और रुपये लेकर फरार हो गया। लोग तकादा करने घर पहुंचने लगे तो स्वजन ने बेदखली का विज्ञापन लगा दिया। दवा कारोबारी प्रसन्न जैन गुरुवार को थाने पहुंचे और हेराफेरी का केस दर्ज करवा दिया। आरोपित ने प्रसन्न को करीब 80 लाख रुपये की चपत लगाई है। कुछ व्यापारी तो कालेधन के चक्कर में शिकायत करने से बच रहे हैं।

छत्रीपुरा टीआइ पवन सिंघल के मुताबिक, फरियादी प्रसन्न पुत्र संजय जैन निवासी श्रेयश अपार्टमेंट मालगंज चौराहा का दवाई का व्यवसाय है। आरोपित अक्षय पुत्र मनोज सोनी निवासी रायल हाइट्स मनोरमागंज बचपन का दोस्त है। पहले अक्षय मुंबई में हीरा व्यवसायी के पास काम करता था। साल 2019 में इंदौर आया और प्रसन्न से कहा कि उसने स्वयं का हीरे का व्यवसाय शुरू कर दिया है। आरोपित ने आभूषणों के कारोबार में निवेश का झांसा दिया और कहा कि वह खूब मुनाफा देगा।

फरियादी से जमा करवा लिए रुपये - एक साल पहले दोनों ने सावी डायमंड ज्वेल्स के नाम से फर्म का रजिस्ट्रेशन करवा लिया। अक्षय ने निजी और कंपनी के खातों में प्रसन्न से करीब 30 लाख रुपये जमा करवा लिए। अक्षय का पिता मनोज भी आभूषण बनाता है। उसने कम लागत में बेहतर आकार के आभूषण बनाने का झांसा दिया और करीब 600 ग्राम सोना ले लिया। हीरे का सेट भी सुधारने के नाम पर ले लिया। 3 मई को अक्षय अचानक लापता हो गया।

कई लोगों के रुपये लेकर भागा - प्रसन्न ढूंढते हुए अक्षय के घर गया तो माता-पिता ने अखबार में जारी इस्तेहार बताया और कहा कि उसे बेदखल कर दिया है। छानबीन करने पर पता चला कि अक्षय सिद्धार्थ, आशु, निकिता, मोंटू सहित कई लोगों से करोड़ों रुपये लेकर भागा है। उसके खिलाफ सराफा, तुकोगंज, पलासिया और चंदन नगर थाने में शिकायत दर्ज हैं। कुछ कारोबारियों ने तो कालेधन के डर से शिकायत ही नहीं की है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close