Indore Crime News : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कलेक्टर कार्यालय में टेबल लगाने की बात को लेकर विवाद हो गया और नौबत मारपीट तक आ गई। पुलिस ने शिकायत पर दोनों पक्षों के खिलाफ कायमी की है।

रावजी बाजार थाना पुलिस के मुताबिक फरियादी सुनैना शाह (35 साल) निवासी परदेशीपुरा है। फरियादी पेशे से वकील है और घटना बुधवार की कलेक्टर कार्यालय परिसर में शाम सवा पांच बजे की है। फरियादी वकालत का काम करती है। फरियादी कलेक्टर कार्यालय में ऊपरी मंजिल पर गई थी। वापस आई तो कुर्सी-टेबल बिखरी पड़ी थी।सामान गिरा हुआ था। इस पर फरियादी ने पास में मौजूद दीपिका सुखाला व उसकी बहन अनामिका से सामान फेंकने का कारण पूछा तो दीपिका ने फरियादी के बाल पकड़कर खींचे और अनामिका ने मारपीट की। बीच-बचाव करने आए फरियादी के पति महेंद्र को भी आरोपितों ने अपशब्द कहे और जाते-जाते टेबल लगाने पर जान से मारने की धमकी दी।

दूसरे पक्ष ने भी की शिकायत - इसी तरह दूसरे पक्ष से अनामिका कैथवार निवासी कोयला बाखल ने पुलिस को शिकायत की है। उसने बताया कि वह कलेक्टर कार्यालय परिसर में लेखन आवेदन नकल आदि का कार्य करती है। आरोपित सुनैना ने दो-तीन दिन पहले ही पास ही में टेबल लगाई है। सुनैना और उसके पति ने अनामिका को धक्का देकर टेबल से हटने के लिए कहा। इसके बाद दोनों ने उसे घेर लिया और मारपीट कर जान से मारने की धमकी दी। पुलिस ने दोनों पक्षों की शिकायत पर धारा 323, 294, 506 व 34 में प्रकरण दर्ज किया है।

घरेलू विवाद के बाद खरगोन से इंदौर पहुंची नाबालिग

इंदौर। घर में विवाद के बाद 17 साल की नाबालिग खरगोन से इंदौर आ गई। वह नौलखा बस स्टैंड पर घूम रही थी। चाइल्ड लाइन टीम ने उसे बालिका गृह भेजा। चाइल्ड लाइन टीम को थाना संयोगितागंज से एक नाबालिग के मिलने की सूचना मिली थी। टीम के सदस्य अभिषेक लोवंशी व अश्विनी वानखेड़े ने उसकी सामान्य चिकित्सा जांच के बाद बाल कल्याण समिति के मौखिक आदेश पर बालिका गृह में प्रवेश दिलवाया। सूचना पर नाबालिग का परिवार भी खरगोन से आ गया। मगर स्वास्थ्य परीक्षण न होने के कारण उसे सौंपा नहीं गया।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close