शासकीय नवीन विधि महाविद्यालय का विवाद, जांच समिति के समक्ष कुछ विद्यार्थियों ने दिए बयान में कहा

Indore Crime News:इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शासकीय नवीन विधि महाविद्यालय में धार्मिक कट्टरता और भड़काऊ शिक्षा दिए जाने पर उठे विवाद की जांच पूरी हो चुकी है। जांच में समिति के सामने कुछ विद्यार्थियों ने माना है कि शिक्षक जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने से नाराज थे। कई बार कक्षा में पढ़ाते समय उसका विरोध करते थे और उसे लेकर अपना तर्क भी रखते थे। वहां भारतीय सेना की गतिविधियों को भी गलत बताते थे। विवादित किताब से भी पढ़ाए जाने की बात सामने आई है। बयान के आधार पर अब समिति रिपोर्ट बना रही है। गुरुवार शाम तक रिपोर्ट सौंपी जा सकती है।

बीते गुरुवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने कालेज में भारतीय सेना, अनुच्छेद 370, राष्ट्र विरोधी गतिविधियां चलाने का आरोप लगाया था। इसके बाद उच्च शिक्षा विभाग ने सात सदस्यीय समिति को जांच सौंपी। समिति ने शिक्षक, स्टाफ और विद्यार्थियों के बयान दर्ज किए। सूत्रों के मुताबिक एलएलबी, एलएलएम, बीएएलएलबी के 130-140 विद्यार्थियों से 18-20 प्रश्नों के जवाब लिखवाए। सात से आठ विद्यार्थियों ने एबीवीपी के आरोपों को सही बताते हुए अपनी बात सदस्यों के सामने रखी। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और भारतीय सेना की गतिविधियों के बारे में शिक्षक आपत्तिजनक बातें करते थे। आतंकवादियों के किस्से भी बताते थे। विवादित किताबें आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों को पढ़ने के लिए दी जाती थीं। अधिकांश छात्र-छात्राएं इन सारी बातों से इन्कार कर रहे हैं।

बोलने से बच रहे समिति सदस्य

जांच पूरी होने के बाद समिति अब बयानों के आधार पर अपना निष्कर्ष निकाल रही है। रिपोर्ट बनाने में समिति जुटी है। संवेदनशील मामला होने के चलते सदस्य खुलकर बोलने से बच रहे हैं। वैसे रिपोर्ट बनाकर उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव, विभाग के अवर सचिव और अधिकारियों को सौंपी जागी। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी। समिति में अतिरिक्त संचालक डा. किरण सलूजा, होलकर साइंस कालेज के प्रशासनिक अधिकारी डा. आरके दीक्षित, जीएसीसी के प्राचार्य डा. अनूप व्यास, भोपाल संभाग के अतिरिक्त संचालक डा. मधुरा प्रसाद, अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा इंदौर के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी डा. आरएस चौहान, जीएसीसी के प्राध्यापक डा. कुंभन खंडेलवाल, बाबूलाल गौर शा. पीजी कालेज (भोपाल) के प्राध्यापक डा. संजय कुमार जैन हैं। एबीवीपी के छात्रनेता लकी आदिवाल का कहना है कि अभी समिति की जांच से संतुष्ट नहीं हैं। कई बातों को रिपोर्ट में शामिल नहीं किया गया है। संगठन न्यायिक जांच की मांग करेगा।

प्राचार्य अस्पताल में भर्ती

विवादित किताब सामूहिक हिंसा व दांडिक न्याय पद्धति को लेकर लेखिका डा. फरहत, प्राचार्य डा. इनामुर्रहमान, डा. मिर्जा मोजिज बेग, अमर ला पब्लिकेशन के संचालक पर प्रकरण दर्ज हो चुका है। आरोपित बनने के बाद प्राचार्य डा. इनामुर्रहमान की तबीयत बिगड़ गई है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया है।

कालेज ने परीक्षा करवाने से किया इन्कार

कालेज में विवाद का असर विद्यार्थियों की परीक्षा पर पड़ने लगा है। गुरुवार से एलएलएम सेकंड सेमेस्टर की परीक्षा होनी थी। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय ने शासकीय नवीन विधि महाविद्यालय और आइपीएस को केंद्र बनाया था। मगर एक दिन पहले कालेज ने परीक्षा करवाने से इन्कार कर दिया है। इसके पीछे तर्क दिया है कि छह शिक्षक पहले ही कार्यमुक्त किए जा चुके हैं। प्राचार्य का इस्तीफा हो चुका है। ऐसी में परीक्षा से जुड़ी व्यवस्था करना संभव नहीं है। कालेज का पत्र मिलने के बाद विश्वविद्यालय को तुरंत नया केंद्र बनाने में दिक्कतें आ रही थीं। इसके चलते कुलपति डा. रेणु जैन ने परीक्षा को कुछ दिन के लिए आगे बढ़ाने पर जोर दिया है। परीक्षा नियंत्रक डा. एसएस ठाकुर का कहना है कि एलएलएम सेकंड सेमेस्टर की परीक्षा कुछ दिन बाद करवाई जाएगी। शासकीय नवीन विधि महाविद्यालय के पास पर्याप्त स्टाफ नहीं है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close