Indore Crime News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नारकोटिक्स विंग ने दवा की नशीली गोलियां बेचने वाले दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों से 370 नशीली गोलियां मिली हैं। प्रतिबंधित गोलियां मजदूरों को सप्लाई होती थी। उनका दावा है कि नशे से उनका स्टेमिना बढ़ता था और ज्यादा काम करते थे। पुलिस को एक एमआर की जानकारी मिली है जो दवाओं की सप्लाई करता था।

डीएसपी (नारकोटिक्स) संतोष हाड़ा के मुताबिक, विंग को खबर मिल रही थी कि आजाद नगर, खजराना सहित कुछ अन्य जगह पर नशीली गोलियों की सप्लाई हो रही है। खासकर मजदूर वर्ग के लोग नशा कर रहे हैं। सूचना के आधार पर निरीक्षक वरसिंह खड़िया ने आरोपित इबादत पुत्र सलामत खान को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में बताया कि वह तो हरदा के राजकुमार पुत्र गयाप्रसाद से सस्ते दामों पर गोलियां खरीद कर इंदौर व आसपास के ग्रामीण इलाकों में सप्लाई करता है।

दवा उपलब्ध कराने वाले एमआर की भी तलाश

पुलिस ने मंगलवार को राजकुमार को भी नशीली गोलियों के साथ गिरफ्तार कर लिया। निरीक्षक के मुताबिक, राजकुमार ने बताया कि वह टिमरनी के एक एमआर से नशीली गोलियां खरीदता था। ज्यादातर गोलियां मजदूर ही लेते थे। गोलियों के सेवन से मजदूरों का दिमाग सुन्न हो जाता था और वह दिन-रात काम करते थे।

गांजा तस्करी : सप्लाई करने वाला तस्कर भी गिरफ्तार

इंदौर। युवती और उसके भाई को गांजा की सप्लाई करने वाले तस्कर को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित ग्रामीण इलाके से गांजा खरीद कर इंदौर में डिलीवरी देने आता था। पुलिस अन्य लोगों की जानकारी जुटा रही है। एसआइ सीमा शर्मा के मुताबिक, पुलिस ने रविवार रात बीकाम की छात्रा, उसकी बहन और भाई को साढ़े चार किलो गांजा के साथ पकड़ा था। छात्रा कालेज और होस्टल के छात्रों को नशा बेचती थी। युवती कोडवर्ड (राजा दीदी) के नाम से गांजा देती थी और भाई ढोलक बजाता था और उसके साथ साथ विभिन्न समारोह में गांजा की पुड़िया बेचता था। पूछताछ के दौरान सोमवार रात पुलिस ने लक्की नामक एक अन्य तस्कर को पकड़ लिया जो इंदौर में गांजा की डिलीवरी देकर जाता था।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close