इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। किला मैदान के सामने स्थित सिकंदराबाद कॉलोनी में पीलिया खाल नाले किनारे किए गए अवैध निर्माण और अतिक्रमण लोगों ने खुद तोड़ना शुरू कर दिए हैं। नाले किनारे 99 अतिक्रमण हैं, जिनमें रहने वाले कई लोगों ने शनिवार से बाधाएं हटाना शुरू कर दिया। पहले नगर निगम खुद कार्रवाई करने की तैयारी कर रहा था, लेकिन लोगों ने नदी शुद्धिकरण के लिए खुद अपनी बाधाएं हटाने की पहल कर रहे हैं। क्षेत्र में नाले किनारे 300 मीटर लंबे हिस्से में सीवरेज लाइन डलना है, जो बाधक निर्माणों के कारण नहीं डल पा रही है। बीते चार साल से निगम वहां कार्रवाई की कोशिश कर रहा था, लेकिन किसी न किसी कारण से कार्रवाई लगातार टलती रही।

नगर निगम अधिकारी जनप्रतिनिधियों की मदद से सिकंदराबाद के रहवासियों से चर्चा कर सहमति से बाधाएं हटाने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि निगम को बलपूर्वक कार्रवाई नहीं करना पड़े। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने बताया पूर्व पार्षद अनवर दस्तक लगातार लोगों से बात कर उन्हें स्वेच्छा से अतिक्रमण तोड़ने के लिए तैयार कर रहे हैं। आयुक्त ने बताया कि लोगों ने शहरहित में खुद बाधाएं हटाने के लिए सोमवार तक का समय मांगा है, इसलिए निगम फिलहाल कार्रवाई नहीं करेगा। तोड़फोड़ के लिए उन्हें यदि निगम अमले की मदद होगी, तो वह भी करेंगे। नगर निगम ड्रेनेज विभाग के कार्यपालन यंत्री सुनील गुप्ता ने बताया कि गुटकेश्वर मंदिर से मरीमाता चौराहा के बीच नाले किनारे लाइन बिछना है, जिसके लिए मकानों के हिस्से तोड़ना पड़ेंगे।

600 एमएम व्यास की लाइन है

अधिकारियों ने बताया कि निगम पीलिया खाल नाले के आउटफॉल बंद करने के लिए यह लाइन बिछा रहा है। इससे लक्ष्मी प्रतिमा से मरीमाता चौराहे के बीच का पानी नाले के बजाय लाइन से बाणगंगा होते हुए सीधे कबीटखेड़ी पहुंच जाएगा। चार साल पहले सिंहस्थ के दौरान भी कार्रवाई की कोशिश की गई थी, लेकिन अतिक्रमण-बाधक निर्माण नहीं हट पाए थे। क्षेत्र में निगम के बिल्डिंग ऑफिसर विवेश जैन ने बताया कि निगम की तरफ से प्रभावित 99 मकानों के लोगों को दो बार नोटिस दिए गए थे। पहली बार 4 नवंबर और दूसरी बार 10 नवंबर को नोटिस दिए गए थे। आखिरी नोटिस में तीन दिन में अतिक्रमण हटाने की मोहलत दी गई थी।

Posted By: dinesh.sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस