इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पुरुषों को नसबंदी के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग पुरुष नसबंदी पखवाड़े का आयोजन कर रहा है। 21 नवंबर से शुरू हुआ यह पखवाड़ा चार दिसंबर तक चलेगा। इसके अंतर्गत जागरूकता के विभिन्न आयोजन किए जा रहे हैं। इनका उद्देश्य परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी बढ़ाना है। पखवाड़े के दौरान स्वास्थ्य विभाग का मैदानी अमले द्वारा पुरुषों को पुरुष नसबंदी के लाभ और परिवार नियोजन कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी क्यों आवश्यक है इसके बारे में जानकारी दी जा रही है।

आयोजन के अंतर्गत 21 से 27 नवंबर तक सामाजिक जागरुक अभियान और 28 नवंबर से 4 दिसंबर तक विभिन्न गतिविधियां संचालित होंगी। इसके अंतर्गत आशा, एएनएम, बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता, सुपरवाइजर आदि द्वारा पुरुष नसबंदी के लिए इच्छुक दंपतियों को चिन्हित किया जाएगा। अन्य विभागों से समन्वय कर क्लबों के माध्यम से प्रचार-प्रसार की गतिविधियां की जाएंगी। वॉल पेंटिंग के माध्यम से इस वर्ष की थीम "परिवार नियोजन में पुरुषों की साझेदारी, जीवन में लाए स्वास्थ्य और खुशहाली" का प्रदर्शन भी किया जाएगा।

30 प्रतिशत महिलाएं समस्याओं से पीडित हैं

विशेषज्ञों के मुताबिक जीवन शैली से संबंधित समस्याओं के कारण महिलाओं में अनेक शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। इनमें मोटापा प्रमुख है। इसलिए भी महिला नसबंदी ऑपरेशन करने में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। साथ ही साथ जिन महिलाओं का प्रसव ऑपरेशन के माध्यम से होता है, उनकी भी नसबंदी मुश्किल होती है। महिलाओं में पीड़ा सहने की क्षमता कम है तो भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। विशेषज्ञ बताते हैं कि वर्तमान में 30 प्रतिशत महिलाएं इस तरह की समस्याओं से पीडित हैं. ऐसी स्थिति में पुरुषों को आगे आकर जनसंख्या स्थिरीकरण के लिए कोशिश करना होगी।

Posted By: dinesh.sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस