इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। लॉकडाउन में सबसे अच्छी आबो-हवा वाला शहर रहा इंदौर बीते एक महीने से प्रदूषण की गिरफ्त में है। शहर का एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) इस दौरान 100 से नीचे नहीं आया है। विशेषज्ञ बता रहे हैं कि ठंड बढ़ने पर इसमें और बढ़ोत्तरी होने की संभावना है। प्राप्त जानकारी के अनुसार डीआइजी ऑफिस स्थित रियल टाइम पॉल्यूशन मॉनीटर सेंटर पर 24 घंटे शहर के प्रदूषण की निगरानी की जाती है। इसी सेंटर के आंकड़े केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को भी भेजे जाते हैं। इन्हें वेबसाइट और एप्लीकेशन पर भी देखा जा सकता है। सेंटर की रियल टाइम रिपोर्ट के मुताबिक बीते 26 अक्टूबर को एक्यूआइ ने जो 100 का आंकड़ा पार किया था, उसके बाद से नीचे ही नहीं आया है जबकि दो बार तो यह 300 का आंकड़ा भी छू चुका है। शहर में लगातार प्रदूषण बढ़ रहा है।

इसी बीच दीपावली और देवउठनी ग्यारस पर हुई आतिशबाजी ने भी शहर के प्रदूषण में इजाफा किया है। विशेषज्ञों का कहना है कि शहर भले ही रात 10:00 बजे बंद हो रहा है, लेकिन मौसम में ठंडक के कारण प्रदूषणकारी तत्व हवा में नीचे ही रहते हैं। जिससे प्रदूषण बढ़ता रहता है। सुबह धूप खिलने पर यह विषैली गैसें ऊपर वायुमंडल में चली जाती है। अगर आप इन सेंटरों की हर घंटे की रिपोर्ट या आंकड़े देखेंगे तो यह बात पता चलेगी।

अधिकारी बोल चुके- वाहन से हो रहा प्रदूषण

पिछले दिनों प्रदूषण को लेकर इंदौर के संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा ने एक बैठक आयोजित की थी। इस समीक्षा बैठक में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के स्थानीय अधिकारियों ने शहर में प्रदूषण के जो प्रमुख कारण बताए थे। उसमें निर्माण कार्य होना, वाहनों का अधिक चलना और होटलों में तंदूर का उपयोग होना जैसे कारण थे। अब प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए इन पर रोक जैसे उपाय किए जाएंगे।

Posted By: gajendra.nagar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस