*लोकसभा चुनाव में पराजय के कारण गिनाते हुए बोले विधायक लक्ष्मणसिंह

इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

कांग्रेस संगठन हमेशा से शहरों में कमजोर है। 'क्यों' का उत्तर मेरे पास भी नहीं है। यह कहना है कांग्रेस के विधायक और विधानसभा में सरकारी उपक्रम समिति के अध्यक्ष लक्ष्मणसिंह का। उन्होंने कहा कि भोपाल ही नहीं, अन्य तमाम जगहों पर लोकसभा चुनाव में नुकसान का कारण भी यही है। सिंह ने कांग्रेस संगठन की व्यवस्थाओं को भी निशाने पर लेते हुए चुनाव में भेजे पर्यवेक्षकों पर सवाल खड़े किए।

शुक्रवार को इंदौर में पत्रकार से चर्चा में सिंह ने कहा कि 2019 का चुनाव पार्टी के लिए आईना है। यह नहीं कहना चाहिए कि पूरी तरह मोदी फैक्टर चला। संगठन की भी बहुत सी कमजोरियां रहीं। ऐसे लोगों को चुनाव में पर्यवेक्षक बनाकर भेजा जो आज तक एक चुनाव भी नहीं लड़े। मुझे या किसी भी वरिष्ठ नेता को ऐसे व्यक्ति की सुननी पड़े, ये कोई नहीं चाहेगा। अगर ऐसी गलतियां नहीं होती तो कांग्रेस की कम से कम 100 सीटें आतीं। मप्र में कांग्रेस की सरकार को कोई हिला नहीं सकता।

सिंह ने दावा किया कोई कितनी भी कोशिश कर ले और कितनी भी बार सदन में मतदान करवा ले, सरकार स्थिर है। कर्नाटक में हमारी सरकार नहीं थी अपितु जेडीएस का मुख्यमंत्री था। मेरी तो संगठन को सलाह है कि या तो अपने दम पर सरकार बनाएं या विपक्ष में बैठें।

दिग्विजय-सिंधिया दोनों वरिष्ठ नेता

लक्ष्मण सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम पर निर्णय नहीं के सवाल पर कहा कि पार्टी तो चल रही है और कार्यकर्ता भी मैदान में हैं। जल्द ही अंतरिम राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया जाएगा। दिग्विजय सिंह और सिंधिया दोनों की पद पर दावेदारी के सवाल पर लक्ष्मणसिंह बोले दोनों वरिष्ठ नेता हैं। पार्टी जिसे जिम्मेदारी देगी, हम उसके पीछे रहेंगे।

तबादले के पक्ष में नहीं

थोकबंद तबादलों की परंपरा पर सिंह ने कहा कि मैं खुद इसका समर्थन नहीं करता। मेरे अपने विधानसभा क्षेत्र में ऐसी सूची बनी थी। मैंने किसी के तबादले की सिफारिश नहीं की। सभी को अच्छे से काम करने के लिए कहा और समय दिया। ज्यादातर लोग अब बेहतर तरीके से काम भी कर रहे हैं। सिंह ने कहा कि मिलावट के खिलाफ छेड़ा गया सरकार का अभियान बड़ी उपलब्धि है। हम शिक्षकों की भर्ती का घोटाला हो या व्यापमं घोटाला, हर धांधली की जांच पूरी कार्रवाई करेंगे।

वकील ने जताया असंतोष

सरकारी वकीलों की नियुक्ति में भाजपा और बीती सरकार से जुड़े वकीलों को प्राथमिकता और लाभ दिए जाने की शिकायत लेकर वकीलों का प्रतिनिधिमंडल सिंह से मिलने पहुंचा। वकीलों ने कहा कि जो बीती सरकार के कार्यकाल में कांग्रेस के पीड़ित कार्यकर्ताओं और संगठन के लिए कोर्ट में बिना फीस केस लड़ते रहे, साथ खड़े रहे, उन्हें छोड़कर ऐसे वकीलों को पेनल में रखा गया जो संघ और भाजपा के करीबी हैं। सिंह ने कहा कि यह गलत है। पहला हक आपका है। इस बारे में सरकार तक बात पहुंचाकर गलती सुधारी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket