इंदौर। बेटी की मौत के गम में 35 वर्षीय महिला ने मानसिक संतुलन खो दिया। अवसाद में वह नशा करने लगी। ठेके पर जाकर शराब खरीदकर पीने लगी थी। उसे सपने में बेटी का चेहरा दिखाई देता था। बेटी के मौत के बाद कई बार आत्महत्या का प्रयास कर चुकी थी। नशे में उसका परिवार से विवाद होता था। गुरुवार को उसने बेटे को अंडा लेने भेजकर फांसी लगा ली। बेटा लौटा तो मां को फंदे में लटका देखा। भागकर पिता के पास गया और बताया जैसे टीवी सीरियल में फांसी लगाते हैं, वैसे ही मां गले में रस्सी बांधकर लटकी हैं।

घर पहुंचे पति ने फंदा काटकर पत्नी को उतारा और अस्पताल ले गए। यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना खजराना थाना क्षेत्र के देवकी नगर की है। जांच अधिकारी शिवकुमार मिश्रा ने बताया कि मृतक मीना पति नरेश वर्मा है। नरेश ने बताया कि गुरुवार रात करीब 8.30 बजे छोटा बेटा गौरव (10) दुकान पर आया था। उसने बताया कि मां ने अंडे मंगवाए हैं। बेटे को अंडे खरीदकर देने के बाद घर भेज दिया। बेटे ने जाकर मां को अंडे दे दिए और सब्जी बनाने के लिए बोला।

पत्नी ने उसे खेलने के लिए भेजा और कमरे में चली गई। कुछ देर बाद बेटा अंदर गया तो महिला फंदे पर लटकी मिली। मां को फंदे में झूलता देखकर बेटा भाग कर पिता के पास आ गया। उसने बताया कि मां ने फांसी लगा ली है। जब बेटे से पूछा कि उसे कैसे पता कि मां ने फांसी लगा ली है। तब उसने बताया कि टीवी पर क्राइम पेट्रोल में देखा था फांसी लगाते हुए। इस वजह से उसे पता है। यह सुनकर वह बेटे के साथ घर गया तो घटना का पता चला।

फंदा काटकर पत्नी को नीचे उतारा। तब पत्नी की सांसें चल रही थीं। चेहरे पर पानी छिड़का और पानी पिलाया। इसके बाद पत्नी को अस्पताल ले गया, जहां डॉक्टरों ने पत्नी को मृत घोषित कर दिया।

बेटी की मौत के बाद से पत्नी अवसाद में थी

नरेश ने बताया कि बेटी की मौत के बाद पत्नी शराब पीने लगी थी। उसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी। कभी-कभी उसे भी पीटती थी। दो साल से पत्नी की मानसिक हालत ठीक नहीं थी। बेटी नैंसी की मौत के बाद से पत्नी बीमार रहने लगी थी। बेटी की उम्र तो 13 वर्ष हो गई थी, लेकिन उसके शरीर का विकास नहीं हुआ था। भगवान के घर से ही बेटी बीमार आई थी। बेटी मंदबुद्धि थी। खाना खिलाओ तो खाती थी। नहीं तो भूखी रहती थी, बोलती नहीं थी। चल-फिर नहीं पाती थी। दो साल पहले उसकी मौत हो गई। इसके बाद से पत्नी तनाव में रहने लगी थी।

पत्नी अक्सर कहती थी कि बेटी उसके सपने में दिखाई देती है। पत्नी नशे में अक्सर कहती थी कि उसे बेटी की सवारी आती है। थानेदार मिश्रा ने बताया कि नरेश प्लास्टिक के खिलौने बेचता है। उसकी बेटी नैंसी की मौत हो चुकी है। बड़ा बेटा रवि 12 वर्ष का है और छोटा गौरव है।

Posted By: Saurabh Mishra

NaiDunia Local
NaiDunia Local