इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के महान पार्श्व गायक मोहम्मद रफी की 96वीं जयंती पर शहर में उनके प्रशंसकों ने उनका जन्मदिन मनाया। मो. रफी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में शहर में एक अलहदा आयोजन हुआ जिसमें कलाकारों ने सतत 36 घंटे तक प्रस्तुतियां दी। इस दौरान मो. रफी के 375 गीत शहर के कलाकारों ने सुनाए। यह अनूठा आयोजन केकेसी मित्र क्लब और संगीत सेवा सहारा के संयुक्त तत्वावधान में फेसबुक पेज पर ऑनलाइन हुआ।

इस आयोजन में केवल इंदौर के ही नहीं बल्कि पुणे, भोपाल, अहमदाबाद, दिल्ली, धार के 96 कलाकारों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दी। एकल और युगल प्रस्तुतियों से सजे इस आयोजन में 'पुकारता चला हूं मैं, वादियां मेरा दामन, हुई शाम उनका ख्याल आ गया, यह मेरा प्रेम पत्र पढ़कर, आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे, मैं कहीं कवि न बन जाऊं, यह दुनिया यह महफिल मेरे काम की नहीं" जैसे प्यार और दर्द भरे गीत पेश किए गए। दीपक पाठक एवं रश्मि तिवारी ने बताया कि कोरोना काल में श्रोताओं को एक स्थान पर एकत्रित करना उचित नहीं रहता इसलिए यह कार्यक्रम ऑनलाइन किया गया। इतने कलाकारों ने 36 घंटे तक सतत प्रस्तुतियां देते हुए अपना नाम स्टार बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करा लिया।

कार्यक्रम की शुरुआत दिव्यांग कलाकार हर्षिता जायसवाल ने रफी साहब के सबसे हिट गीत 'तुम मुझे भुला ना पाओगे" से की। इसके बाद कलाकारों ने 'दिल की आवाज भी सुन, आजा तुझको मेरा प्यार पुकारे, सर जो तेरा चकराए, याद ना जाए बीते दिनों की' सहित कई गीत पेश किए गए। आयोजन में विष्णु देव, साधना पंडित, रेखा रावल, कमलेश मिश्रा, प्रमोद पारे, महेश मिश्रा, नासिर खान, वेदांत मिश्रा आदि कलाकारों ने प्रभावी प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम का समापन फिल्म सरगम के युगल गीत 'डफली वाले डफली बजा' से हुआ। कार्यक्रम का संचालन दीपक पाठक ने किया। आभार महेश मिश्रा ने माना।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags