इंदौर। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तारी के बाद कोर्ट से जमानत नहीं मिली है। आकाश को नगर निगम अधिकारी की पिटाई के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है। कोर्ट ने आकाश को न्‍यायिक हिरासत में 11 जुलाई तक जेल भेजने के आदेश दिए हैं।जेल के बाहर बड़ी संख्‍या में विजयवर्गीय समर्थक जमा हैं। एक समर्थक ने खुद पर केरोसीन डालकर आग लगाने की बात कही, लेकिन उसके हाथ से माचिस छीन ली गई। विधायक रमेश मेंदोला और पूर्व विधायक जीतू जिराती भी समर्थकों के साथ पहुंच गए ।

इस मामले में अनेक भाजपा नेता आकाश के समर्थन में खड़े हो गए हैं वहीं कांग्रेस ने उन पर निशाना साधा है। आकाश के वकील कल सेशन कोर्ट में जमानत की याचिका दायर करेंगे। वहीं निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस के साथ मारपीट करने के आरोप में 8 कर्मचारियों की निगम आयुक्त आशीष सिंह ने सेवाएं समाप्त कर दी हैं। विधायक आकाश विजयवर्गीय को रात 8 बजे जिला जेल में दाखिल किया गया। सेंट्रल जेल अधीक्षक ने जिला जेल, आज़ाद नगर पहुंच कर व्यवस्था सम्भाली। बड़ी संख्‍या में आकाश के समर्थक भी जेल के बाहर जमा हो गए।

आकाश ने नगर निगम अधिकारी को क्रिकेट बैट से पीटा था। विधायक आकाश के खिलाफ एमजी रोड थाने में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। उनके खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा, मारपीट और बलवा की धारा 353 , 294 , 506, 147, 148 में केस दर्ज किया गया है।

इसके बाद आकाश को गिरफ्तार कर लिया गया। आकाश को जिला कोर्ट के 40 नंबर कक्ष में पेश किया गया था। मजिस्‍ट्रेट गौरव गर्ग के काेर्ट में उन्‍हें पेश किया गया था।तमाम दलीलों को सुनने के बाद जमानत निरस्‍त कर दी गई है। कोर्ट परिसर में बड़ी संख्‍या में विजयवर्गीय समर्थक मौजूद थे। कोर्ट ने स्‍पष्‍ट किया कि जनता के मुद्दे उठाए जा सकते हैं लेकिन सरकारी अधिकारी के साथ मारपीट नहीं की जा सकती।

गिरफ्तारी के दौरान एमजी रोड थाने के बाद बड़ी संख्‍या में आकाश के समर्थक जमा हो गए थे। भवन निरीक्षण धीरेंद्र बायस का कहना है कि खाली मकान जो जर्जर था उसे तोड़ने गए थे, विधायक आकाश और उनके 8 साथियों ने की मारपीट की।

जानकारी के मुताबिक गंजी कंपाउंड क्षेत्र में एक जर्जर मकान को तोड़ने के लिए निगम की टीम पहुंची थी। इस दौरान तीन नंबर क्षेत्र से विधायक आकाश विजयवर्गीय भी वहां पहुंच गए। उन्होंने निगम अधिकारियों को धमकी देते हुए कहा कि आप 5 मिनट में यहां से नहीं गए तो आगे जो होगा इसकी जिम्मेदारी आपकी होगी, उनके साथ मौजूद लोगों ने पोकलेन की चाबी भी निकाल ली। इसके बाद निगम के अधिकारियों और विधायक के बीच जमकर विवाद हो गया और मारपीट होने लगी। इस दौरान विधायक समर्थकों ने वहां खड़ी पोकलेन मशीन और नगर निगम की गाड़ी पर पथराव कर उन्हें फोड़ दिया।

विधायक आकाश विजयवर्गीय ने निगम कर्मियों पर पैसे लेकर मकान तोड़ने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मंत्री सज्जन सिंह वर्मा और उनका भाग इस मकान पर कब्जा करना चाहते हैं। आवेदन, निवेदन फिर दे-दना दन हमारे काम का तरीका है। अब नगर निगम में फैले भ्रष्टाचार खत्म करेंगे।

विवाद के बाद एमजी रोड थाने का घेराव

विधायक आकाश विजयवर्गीय और उनके समर्थकों द्वारा नगर निगम अधिकारियों के साथ मारपीट के बाद जमकर हंगामा खड़ा हो गया। विधायक और भाजपा कार्यकर्ता वहां से एमजी रोड थाने पर पहुंच गए। इसके बाद भाजपा विधायक रमेश मेंदोला भी थाने पहुंच गए और निगम अधिकारियों द्वारा के खिलाफ जांच करने की बात कही। घटना की सूचना जैसे ही नगर निगम दफ्तर में लगी, सभी कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया। नगर निगम कर्मचारियों ने आज मनीष सिंह को याद किया। कहा चाटा कांड के बाद हुई कार्रवाई से कर्मचारियों का मनोबल बढ़ा था। विधायक आकाश विजयवर्गीय ने जेडओ बायस के साथ पुलिस की मौजूदगी में मारपीट की। निगमायुक्त आशीषसिंह की समझाइश के बाद कर्मियों ने हड़ताल की स्थगित। आयुक्त बोले जिम्मेदारों पर होगी कार्रवाई।

गृहमंत्री बोले सख्त कार्रवाई होगी

भाजपा विधायक द्वारा निगम अधिकारियों की पिटाई मामले में गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा कि आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। घटना से भाजपा का चाल, चरित्र और चेहरा उजागर हुआ है।

Posted By: Prashant Pandey