इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। Indore News स्‍थानीय महाराजा यशवंतराव अस्‍पताल यानि एमवायएच अस्पताल के मुख्‍य भवन के पीछे बने न्यू टीबी एंड चेस्ट विभाग में मरीजों के आब्जरवेशन रूम में मंगलवार दोपहर आग लग गई।

जानकारी के अनुसार आग लगी तब उस कक्ष में कोई मरीज नहीं था।हालांकि पास ही के वार्ड व आईसीयू में 26 मरीज भर्ती थे। आग के बाद अस्‍पताल के कर्मचारियों ने परिजनों की मदद से मरीजों को नीचे आर्थो वार्ड में शिफ्ट किया।

इस दौरान बिजली बंद होने के कारण पाइप से ऑक्सीजन सप्लाई बंद की गई थी। कुछ मरीजों को सांस लेने में तकलीफ हुई। जिनके लिए अलग से सिलेंडर मंगवाए गए व उन्हें ऑक्सीजन दी गई। दो घंटे बाद लगभग चार बजे वापस सभी मरीजों को वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया।

एसी में लगी आग पर काबू पाने अस्पताल के अग्निशामक यंत्र का उपयोग किया गया। वहीं एसी को भी तोड़कर बाहर निकाला गया। अस्पताल में मौजूद तीन उपकरणों से ही आग को बुझा दिया गया। जब तक दमकल वाहन पहुंचा तब तक आग पर काबू पाया जा चुका था। मौके पर एमवायएच अधीक्षक डाॅ पीएस ठाकुर, टीबी एंड चेस्ट विभाग के प्रभारी डाॅ सलिल भार्गव, डॉ अरविंद घनघोरिया, यूडीएस के मैनेजर जीतू शेखर सहित अन्य डॉक्टर पहुंचे थे।

उल्‍लेखनीय है कि इस अस्‍पताल में दो साल पहले मुख्य बिल्डिंग के एसएनसीयू में एसी में शार्ट सर्किट से आग लगी थी। उस समय वहां भर्ती 47 बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाला गया था। एमवायएच अस्पताल में पुरानी हो चुकी विद्युत लाइनों को बदलने की बात उस समय भी सामने आई थी। लेकिन अभी तक इस काम को पूरा नहीं किया जा रहा।

Posted By: Hemant Upadhyay