इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Indore News: यूनिक अस्पताल में जिस मरीज का शव चूहों ने कुतरा था, उसे यहां के कर्मचारियों ने तलघर में मर्च्युरी के नाम पर बनाए गए बदबूदार कमरे में बगैर सुरक्षा के रख दिया था। कमरे में पर्याप्त उजाला भी नहीं रहता है और चूहे व कीड़ों से शव को बचाने के लिए पेस्ट कंट्रोल भी समय पर नहीं किया गया। कलेक्टर ने जांच टीम को इन बिंदुओं पर भी जांच के लिए निर्देशित किया है कि यूनिक अस्पताल में मरीजों की मौत के बाद शव कैसे रखा जाता है और शव रखने के लिए कैसी व्यवस्था है। मामले में दूसरे दिन मंगलवार को भी स्वजन से जांच समिति के अधिकारियों ने बात नहीं की, जबकि समिति को स्वजन से बात करना भी जरूरी है। कलेक्टर ने दो दिन में जांच रिपोर्ट सौंपने के लिए निर्देशित किया है।

मृतक के बेटे प्रकाश जैन ने बताया कि अभी तक किसी ने भी बात नहीं की। वे लोग बुधवार को इस मामले की शिकायत पुलिस और स्वास्थ्य मंत्री से करेंगे। पिता नवीनचंद जैन पहले भी अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचते रहे हैं। परिचित होने के बाद भी इस तरह की अमानवीयता सामने आई है तो अन्य लोग भी इस तरह की परेशानी से गुजर सकते हैं। अस्पताल पर कार्रवाई को लेकर वे कोर्ट जाने की तैयारी में हैं।

तलघर के कमरों को बनाकर रखा गया है मर्च्युरी

शहर के कुछ बड़े अस्पतालों को छोड़कर बाकी सभी अस्पतालों ने शव रखने के नाम पर तलघर में कमरे बनाकर उन्हें मर्च्युरी का नाम दे दिया, लेकिन उन्हें सुरक्षित रखने को लेकर अलग से कोई उपाय नहीं किए। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के पास भी पुख्ता जानकारी नहीं है कि कितने अस्पतालों ने अपने यहां शव को व्यवस्थित रखने के इंतजाम किए हैं। अस्पतालों की इस लापरवाही पर अभी तक कोई निर्देश भी जारी नहीं हुए।

सीएमएचओ ने मांगी पेस्ट कंट्रोल की जानकारी

सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने शहर के सभी अस्पताल संचालकों को पत्र जारी किया है। इसमें अस्पतालों में किए जा रहे पेस्ट कंट्रोल की जानकारी मांगी है। जिन अस्पतालों ने पेस्ट कंट्रोल के लिए वार्षिक अनुबंध किया है, उन्हें भी इसकी एक कॉपी स्वास्थ्य विभाग को देने के लिए निर्देशित किया है।

मानव अधिकार आयोग को की शिकायत

कोरोना संक्रमित बुजुर्ग का शव चूहों द्वारा कुतरे जाने के मामले की शिकायत जिला आयोग मित्र जयेश राजपुरोहित ने मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग भोपाल को की है। जयेश ने बताया कि संविधान में मिले सारे मौलिक अधिकार मानव अधिकार ही हैं जो मानव के जन्म से लेकर मृत्यु तक लागू रहते हैं। शव के साथ बदसलूकी उसके मानव अधिकारों का हनन है। पिछले एक हफ्ते से इंदौर में लगातार मरीजों के शव से बदसलूकी के मामले सामने आ रहे हैं। इस बारे में पूर्व में भी आयोग को अवगत कराया गया है। एमवाय अस्पताल में स्ट्रेचर पर ही शव के कंकाल होने के मामले में आयोग ने संज्ञान लिया है। इसके बाद कलेक्टर, एसपी, एमवायएच अधीक्षक से चार हफ्तों में जवाबतलब किया गया है। अब इस मामले की भी शिकायत आयोग से की गई है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020