Indore News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राग और रंग का समावेश लिए तीन दिवसीय सालाना जलसा इंदौर में 23 जनवरी से शुरू होगा। यह आयोजन शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में शहर की पहचान एक घराने के रूप में कराने वाले मूर्धन्य गायक उस्ताद अमीर खां की स्मृति में आयोजित किया जा रहा है।

उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत व कला अकादमी के निदेशक जयंत भिसे ने बताया कि इस कार्यक्रम में देश के ख्यातनाम कलाकारों द्वारा संगीतमयी प्रस्तुति भी दी जाएगी। साथ ही कला प्रदर्शनी में भी उत्कृष्ट कलाकृतियों के उदाहरण देखने को मिलेंगे। रागों का माधुर्य लिए आयोजित होने वाला राग अमीर कार्यक्रम रवींद्र नाट्यगृह में 23 जनवरी शाम 7 बजे संस्कृति व पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर के मुख्य आतिथ्य में होगा। वहीं, देवलालीकर कला वीथिका में रंग अमीर कला प्रदर्शनी लगाई जाएगी। इसका उद्घाटन 23 जनवरी को ही होगा।

इस दिन ये कलाकार देंगे प्रस्तुति

  • 23 जनवरी - जयपुर के युवा कलाकार मोहम्मद अमान खां खयाल गायकी पेश करेंगे। इनकी प्रस्तुति के बाद दिल्ली के उस्ताद निशात खां का सितार वादन होगा।
  • 24 जनवरी - कोलकाता के सुप्रियो दत्ता का गायन, इंदौर के कमल कामले का वायलिन वादन और मुंबई की विदुषी आरती अंकलीकर टिकेकर का खयाल गायन होगा।
  • 25 जनवरी - दिल्ली के सुरेश गंधर्व का गायन व वाराणसी की विदुषी कमला शंकर का गिटार वादन होगा। सभी प्रस्तुति में तबला संगत सलीम अल्लाहवाले, अंशुलप्रताप सिंह, हितेंद्र दीक्षित, रामेंद्र सिंह सोलंकी, निसार अहमद करेंगे। हारमोनियम पर भरत जोशी, रचना शर्मा, अभिनय रवंदे व रवि किल्लेदार साथ देंगे।

चित्रकारी की रंगत और कला पर चर्चा

आयोजन के तहत रंग अमीर कला प्रदर्शनी भी आयोजित की जा रही है। 23 से 27 जनवरी तक जारी रहने वाली यह प्रदर्शनी देवलालीकर कला वीथिका में लगेगी। प्रदर्शनी का उद्घाटन शाम 4 बजे होगा। इस प्रदर्शनी में प्रदेश ही नहीं, बल्कि देश के नामी कलाकारों की कलाकृतियां प्रदर्शित की जाएंगी। यहां करीब 80 कलाकृतियां प्रदर्शित होंगी। इस बार सांगीतिक विमर्श कार्यक्रम भी कला वीथिका में होगा। प्रतिदिन शाम 4 बजे आयोजित होने वाले इस विमर्श कार्यक्रम में विशेषज्ञों द्वारा संबंधित विषय पर चर्चा की जाएगी। 24 जनवरी को पुणे के चैतन्य कुंटे संगीत में घरानों की परंपरा और 25 जनवरी को आरती अंकलीकार टिकेकर रियाज व प्रस्तुति विषय पर संबोधित करेंगी।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close