इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मेट्रो ट्रेन कॉरिडोर के लिए एमआर-10 से हटाए गए 482 पेड़ों में से लगभग 80 प्रतिशत सालभर बाद भी जीवित हैं। इन पेड़ों को नगर निगम के उद्यान विभाग ने ट्रांसप्लांट किया था। 20 प्रतिशत पेड़ सूख गए हैं। हालांकि अभी भी निगम ने उन्हें हटाया नहीं है। मानसून सीजन तक उन्हें लगे रहने दिया जाएगा संभव है उनमें भी कोपलें फूट आएं। इन पेड़ों का ट्रांसप्लांटेशन होटल फॉर्च्यून लैंडमार्क के पास शारदामठ, रोबोट चौराहा, लवकुश विहार के डिवाइडर और मेघदूत पार्क में किया गया था।

निगम अधिकारी इसे अपनी बड़ी सफलता मान रहे हैं। आमतौर पर देखा जाता है कि ट्रांसप्लांट किए गए पेड़-पौधों में आधे ही जीवित रहते हैं और बाकी मर जाते हैं। मप्र मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने जब निगम से बाधक पेड़ हटाने को कहा था, तभी उद्यान विभाग ने उनके ट्रांसप्लांटेशन की शर्त रख दी थी। इस काम पर हुआ खर्च भी मेट्रो कंपनी ने ही वहन किया है। मेट्रो कॉरिडोर के पिलर बनाने के लिए इन पेड़ों को हटाना जरूरी था। इनमें चंपा, पीपल, पेल्टाफॉर्म और बादाम आदि पेड़ शामिल हैं।

वैज्ञानिक विधि से किया ट्रांसप्लांटेशन

नगर उद्यान विभाग के तत्कालीन आयुक्त कैलाश जोशी और वर्तमान दरोगा पवन राठौर ने ट्रांसप्लांटेशन कराया था। दरोगा ने बताया कि सभी पेड़ आधा से एक किलोमीटर के दायरे में ट्रांसप्लांट किए गए थे ताकि उन्हें लाने-ले जाने में परेशानी न हो। बाधक पेड़ों को वैज्ञानिक विधि से नियमानुसार ट्रांसप्लांट किया गया था। ट्रांसप्लांटेशन से पहले उनकी अच्छे से छंटाई की। फिर आसपास जड़ तक खोदा गया। जड़ के आसपास जाल और टाट लगाकर जड़ों पर हार्मोन लगाकर उन्हें दूसरी जगह रोपित किया गया। पूरी सावधानी का ही परिणाम रहा कि 80 प्रतिशत पेड़ जीवित बचे हैं। दरोगा के मुताबिक जो 20 प्रतिशत पेड़ मर गए हैं, वे गर्मी के कारण जीवित नहीं बचे। हालांकि अभी डेढ़-दो महीने तक उन पर निगाह रखी जाएगी।

अब 8500 पौधों और झाड़ियों की बारी

बड़े पेड़-पौधों के सफल ट्रांसप्लांटेशन के बाद नगर निगम 8500 पौधों और झाड़ियों की शिफ्टिंग करना है। मेट्रो कंपनी ने निगम को पौधे-झाड़ियां हटाने को कहा है। ये पौधे मेघदूत उपवन के सामने स्थित डिवाइडर पर लगे हैं। इन सभी को शहर में अलग-अलग जगह लगाया जाएगा। हालांकि जानकार पहले ही बता चुके हैं कि छोटे पौधे में अधिकतम 50 प्रतिशत ही जीवित बच सकेंगे और बाकी का जीवित रहना मुश्किल है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan