इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बीएड-एमएड सहित एनसीटीई पाठ्यक्रम की काउंसलिंग से जुड़ी प्रक्रिया में उच्च शिक्षा विभाग को बदलाव करना भारी पड़ गया है। दो दिन पहले जारी काउंसलिंग शेड्यूल को लेकर मालवांचल अशासकीय शिक्षा महाविद्यालय संघ ने आपत्ति उठाई है। संघ ने प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर शेड्यूल मेें संशोधन करने का सुझाव दिया है। संघ ने कहा कि पहले की तरह कालेजों से खाली सीटों की जानकारी आने के बाद अगले चरण के लिए नए पंजीयन शुरू करवाए जाएं। ऐसा करने से विद्यार्थी प्रक्रिया में बेहतर ढंग से हिस्सा ले सकेंगे। संघ ने नया शेड्यूल जारी करने पर जोर दिया है।

दरअसल गुरुवार को विभाग ने एनसीटीई से प्राप्त पाठ्यक्रम की काउंसलिंग का शेड्यूल निकाला। 17 मई से बीएड-एमएड, बीपीएड-एमपीएड, बीएबीएड सहित अन्य पाठ्यक्रम के लिए पंजीयन होंगे, जिसमें पहला चरण खत्म होने से पहले दूसरे चरण के लिए नए पंजीयन की लिंक खोली गई है। ऐसा ही दूसरे चरण के दौरान भी किया गया है। इसके चलते विद्यार्थियों को काफी दिक्कतें हो सकती है। संघ के पदाधिकारी अभय पांडे, रामबाबू शर्मा, रवि भदौरिया ने कहा कि शेड्यूल में संशोधन किया जाना चाहिए। प्रवेश लेने के बाद कालेजों में रिक्त सीटों की जानकारी पोर्टल पर अपडेट हो, फिर दूसरे चरण की काउंसलिंग शुरू की जाए। इससे विद्यार्थियों को कालेज चुनने और प्रवेश लेने में आसानी होगी। इस प्रक्रिया से छात्र परेशान होने से बचेंगे।

प्रभु त्रिवेदी और हरेराम बाजपेयी नेपाल में सम्मानित

इंदौर। विगत दिनों नेपाल की राजधानी काठमांडू में 'नेपाल-भारत साहित्य महोत्सव" आयोजित हुआ। इस आयोजन में मध्य प्रदेश लेखक संघ इंदौर इकाई के अध्यक्ष प्रभु त्रिवेदी और हिंदी परिवार इंदौर के अध्यक्ष हरेराम बाजपेयी को सम्मानित किया गया। महोत्सव में दोनों देशों के मध्य साहित्य, कला और संस्कृति पर विचार मंथन हुआ। इसके अलावा सात सूत्रीय घोषणा पत्र पारित हुआ जिसके माध्यम से दोनों देशों की साहित्यिक-सामाजिक मैत्री को प्रगाढ़ करने पर बल दिया गया।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local