Indore News: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर में प्लाट का सौदा करते वक्त कालोनाइजर ने वादा किया था कि कालोनी में बाउंड्रीवाल, स्विमिंग पूल, जागिंग ट्रैक, पक्की सड़कें, डिवाइडर, खेल मैदान आदि की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी, लेकिन उसने विकास ही नहीं किया। खरीदार ने पैसे वापस मांगे तो कालोनाइजर आनाकानी करने लगा। आखिर मामला जिला उपभोक्ता आयोग तक पहुंचा। आयोग ने कालोनाइजर को आदेश दिया है कि वह खरीदार को उसका पैसा लौटाए और इस रकम पर 12 प्रतिशत वार्षिक की दर से ब्याज भी दे।

मामला देपालपुर के ग्राम मौजारे वाड़ में विकसित मिलियन एरियस लैंडमार्क फेज वन का है। परिवादी पंकज नागर एवं सचिन भंडारी ने डीएचएल इंफ्राबुल्स इंटरनेशनल प्रालि से वर्ष 2011 में 1500 वर्गफीट के प्लाट का सौदा किया था। खरीदार ने दो वर्ष में सात लाख 20 हजार रुपये कालोनाइजर कंपनी को दे दिए। कंपनी ने दो वर्ष में विकास कार्य पूरा करने का आश्वासन दिया था, लेकिन जब कोई विकास नहीं हुआ तो परिवादी ने कंपनी से अपने पैसे वापस मांगे। जब पैसा वापस नहीं मिला तो उन्होंने जिला उपभोक्ता आयोग के समक्ष गुहार लगाई।

आयोग ने माना- सेवा में कमी - आयोग ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद माना कि कंपनी ने विकास कार्य नहीं कर अपनी सेवाओं में कमी की है। आयोग ने कालोनाइजर कंपनी को आदेश दिया कि वह परिवादी को सात लाख 20 हजार रुपये का भुगतान करे। इस रकम पर वाद दायर करने की दिनांक से 12 प्रतिशत वार्षिक की दर से ब्याज भी देना होगा। आयोग ने परिवादी को मानसिक पीड़ा की क्षतिपूर्ति के लिए 50 हजार रुपये और वाद व्यय के रूप में दस हजार रुपये भी दिलवाए।

व्यापारी के साथ लाखों की धोखाधड़ी

इंदौर। एक व्यापारी के साथ लाखों की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। 36 वर्षीय जितेंद्र पिता भारत सिंह डाबी ने एक कंपनी से कच्चा माल खरीदने के लिए पांच लाख रुपये ट्रांसफर किए थे। रुपये भेजने के बावजूद उसे कंपनी द्वारा मटेरियल उपलब्ध नहीं करवाया गया। इसके बाद जितेंद्र ने बाणगंगा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया कि उसने चिराग ट्रेडिंग कंपनी के मालिक संदीप उर्फ बंटी से मुलाकात कर माल खरीदने के लिए कंपनी के खाते में पांच लाख रुपये ट्रांसफर किए थे। इसके बाद संदीप के कहने पर जितेंद्र ने सुदर्शन प्लायवुड कंपनी में दो लाख 45 हजार तथा सरस्वती इंटरप्राइजेस नामक कंपनी में एक लाख 21 हजार रुपये जमा करवाए। रुपये जमा करवाने के बावजूद न ही उसे मटेरियल दिया और न ही रुपये लौटाए। रुपये मांगने पर उसे धमकी देने लगे। इस पर जितेंद्र ने थाना में रिपोर्ट दर्ज करवाई है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close