Indore Panchayat Chunav 2022 Voting: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंचायत चुनाव के दौरान महू विधानसभा क्षेत्र की मेण ग्राम पंचायत इस समय राजनीतिक बवाल और बदले का केंद्र बन गई है। शनिवार को यहां पंचायत चुनाव का मतदान तो हुआ लेकिन विवाद की आशंका में मतगणना नहीं की गई। मेण के अलावा केसरबर्डी, नांदेड़, अवलाय, खुर्दी और छापरिया सहित सात ग्राम पंचायतों में भी विवाद की आशंका के कारण मतदान दलों ने मतगणना नहीं की। इन सभी पंचायतों की मतपेटियां महू मुख्यालय पर शासकीय भैरूलाल पाटीदार कालेज में बने स्ट्रांग रूम में रखवा दीं। अब 28 जून को सरपंच और पंच पदों के लिए डाले गए मतों की गिनती की जाएगी।

दरअसल, मेण में कांग्रेस नेता रामेश्वर पटेल के परिवार से उनकी बहू मायाबाई सरपंच थीं। इस चुनाव में उनके पुत्र और मायाबाई के पति बैकुंठ पटेल सरपंच के उम्मीदवार हैं। उनका मुकाबला भाजपा समर्थित उम्मीदवार भगवान जिराती से है। मेण में विकास कार्याें में आर्थिक गड़बड़ी को लेकर पंचायत चुनाव की प्रक्रिया के बीच ही ग्राम पंचायत का रिकार्ड जब्त कर लिया गया और आनन-फानन में जांच की गई।

इसमें निर्माण सामग्री की खरीदी पर जीएसटी न चुकाना, अपने रिश्तेदार के खाते में पैसा डालकर रेत और गिट्टी के विक्रेता को भुगतान करने जैसी अनियमितताएं शामिल हैं। इसी को लेकर चार दिन पहले मायाबाई, उम्मीदवार बैकुंठ, पूर्व पंचायत सचिव महेंद्र चौधरी आदि के खिलाफ बड़गोंदा थाने पर एफआइआर दर्ज करा दी गई। अब पुलिस मायाबाई और बैकुंठ की गिरफ्तारी के लिए घूम रही है।

गिरफ्तारी की भनक लगने पर मायाबाई और बैकुंठ फिलहाल फरार चल रहे हैं। बताया जाता है कि कांग्रेसी परिवार से सरपंच होने से और दोबारा उसी परिवार से दोबारा उम्मीदवार होने से भाजपा के बड़े नेताओं ने चुनाव के बीच ही इस परिवार को घेरने की रणनीति बनाई है। भाटखेड़ी, डोंगरगांव और चोरल पंचायतों का भी रिकार्ड जब्त किया गया है। महू जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी हेमेंद्रसिंह चौहान ने बताया कि मेण में दो साल की जांच में ही लगभग 20 लाख का गबन सामने आया है। इसमें फर्जी बिल और बिना जीएसटी के बिलों का भुगतान होना पाया गया है। जिन अन्य पंचायतों की रिकार्ड जब्त किया गया है, उनकी भी जांच की जा रही है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close