Indore Police News: इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। वर्तमान परिस्थितियों में टीकाकरण ही कोरोना का सुरक्षा कवच है। संभाग के 10 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी टीके के दोनों पूरा करवा चुके है। यही कारण है कि दूसरी लहर में सिर्फ 1600 पुलिसकर्मी व अफसर संक्रमित हुए है। जबकि पहली लहर में 3 हजार से ज्यादा कर्मी संक्रमित हुए थे।

आइजी हरिनारायणाचारी मिश्र के मुताबिक आठों जिलों में 10 हजार से ज्यादा का बल है। जिसमें से 99 प्रतिशत से ज्यादा पुलिसकर्मी टीके के दोनों डोज लगवा चुके है। जिन्होंने नहीं लगवाए उनमें वो पुलिसकर्मी शामिल है जो या तो कोरोना संक्रमित हुए है या गंभीर बीमारियों की दवाई ले रहे है।

आइजी के मुताबिक पहली लेहर में जोन में करीब 3 हजार पुलिसकर्मी संक्रमित हुए थे जिसमें से 02 की मौत भी हो चुकी है। दूसरी लहर आक्रामक होने के बाद भी इस बार सिर्फ 1600 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए और 5 की मौत हुई।

आइजी का मानना है कि कोरोना से बचाव का एकमात्र उपाय टीका ही है। आरआइ जयसिंह तोमर के मुताबिक पुलिस लाइन में पदस्द कईं पुलिसकर्मी संक्रमित हुए लेकिन वैक्सीन के कारण उन्होंने घर पर रहकर कोरोना को हरा दिया। कम ही लोग थे जिन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा। हालांकि कुछ उपचार में देरी के कारण भी गंभीर हुए हैं। जिसमें पुलिस कंट्रोल रूम पर पदस्थ हवलदार इंद्रप्रतापसिंह पंवार भी शामिल है जिनकी निजी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। आरआइ के मुताबिक पंवार को वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके थे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags