Mahenoor Murder Case: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सात साल की मासूम को अगवा कर हत्या करने वाला सिरफिरा दुष्कर्म करना चाहता था। लोगों ने उसे जबरदस्ती ले जाते देख कर शोर मचा दिया और उसने बच्ची को छलनी कर डाला। उसके शरीर पर चाकू के 33 घाव मिले हैं।

आजादनगर एसीपी (आइपीएस) मोतीउर रहमान के मुताबिक आरोपित शुक्रवार को पागलपन का दिखावा कर पुलिस को गुमराह कर रहा था। शनिवार सुबह सख्ती करने पर टूट गया और बताया बच्ची को पसंद करता था। कई दिनों से उसे अगवा करने की फिराक में था। शुक्रवार सुबह घर के बाहर खेलते देख उठाया लेकिन बच्ची की नानी ने हाथ पकड़ लिया। धक्का मुक्की कर वह बच्ची को घर तो ले गया लेकिन भीड़ ने दरवाजा बजाना शुरू कर दिया। लोग उसे छुड़ा कर ले जाएंगे, इस डर से उसने बच्ची को चाकू मार कर जान से खत्म कर दिया। जैसे-जैसे लोग दरवाजा खुलवाने के लिए आवाज लगाने लगे वैसे-वैसे ही बच्ची को चाकू मारता गया। उसने पूरे शरीर को ही छलनी कर डाला। पीएम रिपोर्ट में डाक्टर ने 33 घावों की पुष्टि की है।

सीसीटीवी कैमरे में नजरें गढ़ाए बैठा दिखा आरोपित - पुलिस ने घटनास्थल के आसपास से सीसीटीवी फुटेज जुटाए हैं। आरोपित काफी देर से बच्ची को अगवा करने का मौका देख रहा था। वह बच्ची के नाना के घर से थोड़ी दूर बैठा हुआ था। जैसे ही बच्ची टहलते हुए घर से आगे गई आरोपित उसे उठा कर ले गया। एसीपी के मुताबिक फुटेज अपहरण और हत्या के केस में अहम साक्ष्य हैं। पुलिस ने विस्तृत पूछताछ के लिए आरोपित का एक दिन का रिमांड मांगा है।

चश्मदीद और स्वजन के कोर्ट में बयान - पुलिस ने शुक्रवार को ही आरोपित का मकान तुड़वा दिया था। आरोपित और पीड़ित पक्ष एक ही मोहल्ले में रहते हैं। चालान के बाद दोनों पक्षों में समझौता न हो इसलिए बच्ची के स्वजन और चश्मदीदों के कोर्ट में भी धारा 164 के तहत बयान करवाए जा रहे हैं। पुलिस ने आरोपित को पूर्ण स्वस्थ बताया है।

चिह्नित अपराध में शामिल किया प्रकरण - डीसीपी जोन-1 अमित तोलानी का कहना है कि सात दिन के भीतर विवेचना पूर्ण करना तय किया है। इस प्रकरण को चिह्नित अपराधों में शामिल किया है। आरोपित के विरुद्ध भौतिक साक्ष्यों के साथ वैज्ञानिक साक्ष्य भी जुटाए हैं ताकि कड़ी सजा मिल सके।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close