इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि,Indore Railway News। उज्जैन-फतेहाबाद के बीच बिछाई गई बड़ी लाइन का सीआरएस (कमिश्नर रेलवे सेफ्टी) निरीक्षण फरवरी के पहले हफ्ते में करवाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। माना जा रहा है कि तीन फरवरी को सीआरएस आकर इस ट्रैक का निरीक्षण करेंगे। कोई भी ट्रैक शुरू करने या उस पर यात्री ट्रेनों के संचालन से पहले रेलवे नियमानुसार सीआरएस निरीक्षण करवाता है।

लंबे समय से 23 किलोमीटर लंबे उज्जैन-फतेहाबाद सेक्शन को शुरू करने का इंतजार हो रहा है। ट्रैक का सीआरएस निरीक्षण भी लगातार टलता रहा। पहले दिसंबर और फिर जनवरी अंत में सीआरएस निरीक्षण के प्रयास होते रहे। हालांकि प्रोजेक्ट के अधूरे कार्यों के कारण निरीक्षण लगातार टलता रहा। बड़ी लाइन बिछाने के ज्यादातर काम पूरे हो गए हैं। सूत्रों का कहना है कि आखिरी चरण में नई रेल यानी पटरी बिछाने का काम होना है, जिसमें 6-7 दिन का समय लगना है। पटरी बिछाने की मशीन अब तक गुजरात में थी, लेकिन अब आ गई है। इसलिए यह काम तेजी से हो सकेगा। उज्जैन-फतेहाबाद सेक्शन को बड़ी लाइन में बदलने पर करीब 250 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं।

यह लाइन विद्युतीकृत भी की गई है। इस लाइन के शुरू होने से सबसे ज्यादा फायदा इंदौर-उज्जैन के यात्रियों को होगा, क्योंकि देवास रूट की तुलना में यह रेल मार्ग छोटा है। इंदौर से देवास होकर उज्जैन की दूरी लगभग 79 किमी है, जबकि फतेहाबाद होकर उज्जैन की दूरी 63 किमी है। इस तरह 16 किमी के सफर की बचत होगी। शुरुआत में इस ट्रैक पर काशी-महाकाल एक्सप्रेस और महू-प्रयागराज ट्रेन चलाने की तैयारी है।

Posted By: gajendra.nagar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags