Indore Railway Station : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर से देश की राजधानी दिल्ली जाने वाले यात्रियों को रेलवे ने एक नई सौगात दे दी है। अब संभवतः अगले माह से इंदौर से दिल्ली के बीच एक नई ट्रेन शुरू हो जाएगी। यह ट्रेन सप्ताह में तीन दिन चलेगी। लंबे समय से इसकी मांग की जा रही थी। अभी इसका रूट तय नहीं हुआ है। जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी।

सांसद शंकर लालवानी ने सोमवार को केन्द्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से हुई मुलाकात के बाद इस ट्रेन की घोषणा की है। उन्होंने बताया कि इसी साल गर्मी में रेलवे ने एक समर स्पेशल साप्ताहिक ट्रेन इंदौर से दिल्ली के बीच चलाई थी जिसे काफी बेहतर रिस्पांस मिला था। यह ट्रेन लगातार फुल ही चल रही थी जिससे उसे नियमित करने की मांग की जा रही थी। ऐसा लग रहा था कि यह ट्रेन नियमित हो जाएगी लेकिन इसे बंद कर दिया गया। इसी बीच रेल मंत्री ने हमें यह नई ट्रेन दे दी है। अगले महीने से यह ट्रेन चलेगी। त्योहारी सीजन में यात्रियों को इससे काफी सुविधा हो जाएगी।

जो ट्रेनें चल रही हैं, उनमें सालभर रहती है वेटिंग - इससे पहले रेलवे बोर्ड ने राजधानी दिल्ली के लिए एक क्लोन ट्रेन को भी अनुमति दे दी थी। जिसका रूट भी निर्धारित हो गया था लेकिन यह ट्रेन शुरू नहीं हो पाई थी। अभी इंदौर से जो ट्रेन चल रही हैं, उनमें पूरे साल ही वेटिंग रहती है। नई ट्रेन चलने से यात्रियों को सुविधा हो जाएगी। जानकारी के अनुसार अभी इंदौर से दिल्ली के बीच मालवा एक्सप्रेस, इंटरसिटी, इंदौर-चंडीगढ़, इंदौर-दिल्ली साप्ताहिक, इंदौर-जम्मू साप्ताहिक और इंदौर-अमृतसर एक्सप्रेस चलती है। नई ट्रेन चलने से यात्रियों को और सुविधा हो जाएंगी। इन ट्रेनों में बारह माह वेटिंग चलती रहती है जिससे लगातार एक अतिरिक्त ट्रेन चलाने की मांग की जाती रही है।

इंदौर से जयपुर के बीच चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस, मिली मंजूरी

इंदौर। देश की सबसे अत्याधुनिक ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस इंदौर से जयपुर के बीच चलेगी। ट्रेन को लेकर अनुमति मिल चुकी है, लेकिन अभी रैक उपलब्ध नहीं होने से दो से तीन माह का समय लगेगा। इंदौर से जयपुर, जबलपुर, सूरत और नागपुर के लिए ट्रेन चलाने का सुझाव सांसद ने रेल मंत्री को दिया था। इसमें से जयपुर को हरी झंडी मिल गई है। सांसद शंकर लालवानी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि इंदौर से जयपुर के लिए ट्रेन चलाने पर सहमति बन गई है। रेलवे 100 रैक तैयार करवा रहा है। इसमें दो हमें मिल जाएंगे। इसके बाद यह ट्रेन इंदौर से शुरू हो जाएगी। दोनों शहरों के बीच का सफर सात से आठ घंटे में पूरा हो जाएगा। यह ट्रेन 160-180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है। हालांकि देश में उपलब्ध ट्रैक पर अधिकतम संभव गति 130 किमी प्रति घंटा ही है। पिछले दिनों रेलवे बोर्ड ने पश्चिम रेलवे को निर्देश दिए थे कि गर्मियों में शुरू हुई महू-दिल्ली समर स्पेशल ट्रेन को रतलाम से दिल्ली सेक्शन के बीच 130 किमी प्रति घंटे की गति से चलाया जाए। इंदौर-फतेहाबाद- रतलाम के बीच ट्रैक की क्षमता नहीं होने से इसे 100 किमी प्रति घंटे की गति पर चलाया गया था।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close