*पुलिस मुठभेड़ में पकड़ाए चोरों की निशानदेही पर कार्रवाई

*घरेलू नौकर, कर्मचारियों पर रेकी का शक

इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

सूने फ्लैट से सवा किलो सोना चूराने वाले बदमाशों को सुनार फंडिंग करता था। चोरी के लिए पेट्रोल, कार, होटल का खर्चा देता था। उन्हें यह भी बताता था कि किस घर और फ्लैट में सोना और नकदी मिल सकता है। पुलिस ने सुनार को 45 तोला सोना सहित पकड़ लिया है। शक है कि सुनार घरेलू नौकर व कर्मचारियों से रेकी करवाता है।

एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र के अनुसार पुलिस ने 3 दिसंबर को शातिर चोर कैलाश चिंतामण मोरे निवासी सोनगीर धुलिया और अजय पिता प्रताप कटवाल निवासी नगांव पारी पुरुषोत्तम को मानपुर के समीप मुठभेड़ में गिरफ्तार किया था। आरोपितों ने मंगलमूर्ति नगर स्थित सरस्वती अपार्टमेंट में रहने वाले आईटी कंपनी के संचालक दिलीप गुप्ता और एक कंपनी के मैनेजर योगेश क्षीरसागर के फ्लैट से सवा किलो सोना चुराया था। पुलिस ने गिरोह में शामिल सुनार अंकलेश पिता बसंत सोनार निवासी डोंडाइंचा जिला धुले को भी गिरफ्तार कर लिया। उससे 45 तोला वजनी सोने के आभूषण भी बरामद हुए हैं।

घरों में काम करने वालों पर भी शक

एएसपी मनीष खत्री के अनुसार आरोपित कैलाश मोरे ने बताया कि चोरी के पहले अंकलेश उन्हें पेट्रोल, गाड़ी और ठहरने के लिए रुपए देता था। यह भी बताता था कि किस फ्लैट और घर में अधिक सोना मिल सकता है। पुलिस को शक है कि अंकलेश का घरों में काम करने वाले नौकरों और अन्य कर्मचारियों से संपर्क है। वह उसे घर के बारे में पूरी जानकारी मुहैया करवाते रहे हों।

बैग में औजार और हथियार लेकर आते थे बदमाश

आरोपितों के गिरोह में शामिल तीन बदमाशों की जानकारी भी मिली है। आरोपित कार के नंबर बदल कर शहर में प्रवेश करते थे। उनके पास बैग थे जिनमें ताला तोड़ने के औजार और हथियार रहते थे। इससे किसी को उन पर शक भी नहीं होता था। पुलिस के अनुसार कैलाश पर 60 से अधिक केस दर्ज हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket