इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शासन ने कॉलेज और विश्वविद्यालय में दिसंबर से दोबारा नियमित कक्षाएं शुरू करने का फैसला लिया है। मगर अचानक कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होने से शिक्षक काफी डर गए हैं। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के शिक्षक संघ ने अॉनलाइन टीचिंग को अगले कुछ महीनों के लिए जारी रखने पर जोर दिया है। मामले में कुलपति प्रो. रेणु जैन को सुझाव दिया गया है। फिलहाल विद्यार्थियों को बुलाने के पक्ष में अधिकांश विभागाध्यक्ष राजी नहीं हैं।

संक्रमण के बीच विद्यार्थियों को कक्षाओं में पढ़ाने का दवाब अब शिक्षकों पर आने लगा है। साथ ही चिताएं बढ़ने लगी हैं। ज्यादातर शिक्षक कुछ और महीने अॉनलाइन टीचिंग से पढ़ाई करवाने की सलाह देने लगे हैं। देवी अहिल्या शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने सोमवार दोपहर 12 बजे बैठक रखी है, जिसमें अॉनलाइन टीचिंग, विभागों की व्यवस्था, प्रमोशन, इंक्रीमेंट समेत कई मुद्दों पर बातचीत की जाएगी।

संघ के अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मण शिंदे का कहना है कि 1 दिसंबर से नियमित कक्षाएं लगाने की तैयारी चल रही है। एेसे में संस्थानों में भीड़ बढ़ेगी। इसके चलते संक्रमण और बढ़ सकता है। कई शिक्षकों ने अॉनलाइन टीचिंग को संक्रमण से बचाने का बेहतर उपाय बताया है। सोमवार को बैठक में जो भी सुझाव आएंगे। उनसे विश्वविद्यालय प्रशासन को अवगत कराया जाएगा।

नहीं बने कोई नियम

कोरोना के बीच कक्षाएं शुरू करने को लेकर यूजीसी की अोर से गाइडलाइन आ चुकी है। प्रत्येक कक्षाओं में विद्यार्थियों के बीच 6 फीट की दूरी रखने पर जोर दिया है। जबकि इस गाइडलाइन के मुताबिक विवि में व्यवस्था बनाना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि विवि के विभागों में कक्षाएं छोटी हैं। बावजूद इसके विवि ने अभी तक अपनी तरफ से कोई नियम नहीं बनाया है।

Posted By: dinesh.sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस