इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। थानों की मुस्तैदी जांचने निकले एसपी (पूर्वी क्षेत्र) मो. युसूफ कुरैशी को सोमवार रात थानों में जो नजारा दिखा तो वे खुद सकते में आ गए। छापामारी के दौरान उन्हें एक थाने में प्रधान आरक्षक टीआई के केबिन में सोता मिला। एसपी को सामने देख उसने पतलून पहनी। एक एएसआई कुर्सी पर पैर लंबे कर खर्राटे भर रहा था। बैंक लूट की घटना के बाद अधिकारियों ने शहर के सभी थानों को अलर्ट कर दिया। उसके बाद एसपी देर रात औचक निरीक्षण पर निकले। आजादनगर थाने में लापरवाही मिलने के बाद पुलिस कंट्रोल रूम से इस उम्मीद से दौरे का प्रसारण करवाया कि संभवत: बाकी थाने उनके पहुंचने से पहले अलर्ट हो जाएंगे, फिर भी थानों में मौजूद पुलिस वालों की नींद नहीं खुली। आठ थानों के निरीक्षण में सिपाही, प्रधान आरक्षक और एएसआई को निलंबित किया। निजी कार से गश्त कर रहे पीएसआई को नोटिस देकर जवाब मांगा गया है।

आजादनगर थाना : लगभग रात 2.15 बजे

लोकेशन पूछने पर भी जवाब नहीं मिला, सिपाही निलंबित

आजादनगर थाने में प्रधान आरक्षक अकेला बैठा हुआ था। उसने संतरी को मेडिकल करवाने रवाना कर दिया था। यह देख एसपी ने प्रधान आरक्षक को फटकार लगाई और ड्यूटी पर मौजूद सिपाही अंकित चौहान की लोकेशन मांगी। अंकित ने वायरलेस सेट पर जवाब नहीं दिया तो एसपी ने उसकी गैरहाजिरी डलवा दी और तत्काल निलंबित करने के आदेश दिए।

संयोगितागंज थाना : रात 2.30 बजे

एसपी को देख हड़बड़ाकर उठा, फिर पहनी पतलून

संयोगितागंज थाने में प्रधान आरक्षक राधेश्याम त्रिपाठी टीआई सुबोध श्रोत्रिय के केबिन में एसी चालू कर सो रहा था। त्रिपाठी ने पतलून नहीं पहनी हुई थी। एसपी ने उन्हें उठाया तो घबरा गए। उठकर पतलून पहनी, फिर सैल्यूट किया। लेकिन तब तक थाने की पोल खुल चुकी थी। एसपी ने मौके पर ही प्रधान आरक्षक त्रिपाठी को निलंबित कर दिया।

विजयनगर थाना : 2.50 बजे

एएसआई ने एसपी से ही पूछ लिया- बोलो कैसे आना हुआ

थाने में एएसआई अमरसिंह राजपूत कुर्सी पर पैर लंबे कर सो रहे थे। एसपी ने एएसआई को उठाया तो आंख मलते हुए एसपी से ही पूछ लिया- बोलो, कैसे आना हुआ? इस पर एसपी ने नाराज होते हुए कहा- ड्यूटी टाइम पर सो रहे हो? थाना लुटवाना है क्या? गनमैन और चालक देख एएसआई की नींद उड़ी और उठ कर सैल्यूट किया। एसपी ने तत्काल राजपूत को निलंबित कर लाइन अटैच कर दिया।

एमआईजी थाना : लगभग रात 3 बजे

एमआईजी थाने में पीएसआई मनीष गुर्जर की रात्रि गश्त थी। वह थाने की गाड़ी खड़ी कर निजी कार में घूम रहा था। उससे जवाब मांगा गया है। इस बीच एसपी हीरानगर, परदेशीपुरा, बाणगंगा थाने भी पहुंचे। हालांकि वहां कोई गड़बड़ी नहीं मिली। कार्रवाई के दौरान उन्होंने सभी थानों की हवालात देखी। मुजरिमों से बात की और अन्य सुरक्षा व्यवस्था जांची।

Posted By: Saurabh Mishra