इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संक्रमण के चलते 9 महीने से बंद एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम फिर शुरू हो गया है। इसके अंतर्गत रविवार शाम तक एक आस्ट्रीच पक्षी का जोड़ा रांची चिड़ियाघर से लाया जा रहा है। इसमें एक चार और दूसरा साढ़े चार साल का है। इसके बदले में रांची चिड़ियाघर को एक भेडि़या का जोड़ा दिया गया है। एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम के शुरू होने से इंदौर में व्हाइट टाइगर के आने का रास्ता भी खुल गया है।

व्हाइट टाइगर शिवानी की मौत के बाद से व्हाइट टाइगर के एक जोड़े को लाने की कवायद पिछले तीन साल से चल रही है। इनके लिए केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण के नियमानुसार बाड़ा भी बनाकर तैयार कर दिया गया है। इसमें जंगल जैसा माहौल देने की कोशिश की गई है। इसके लिए देश के तीन चिड़ियाघर से बात चल रही है। जू प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जल्द ही चिड़ियाघर में मकाऊ पक्षी, विदेशी बंदर, एनोकोंडा सांप आदि भी लाने की तैयारी है।

चिड़ियाघर में हो जाएंगे तीन आस्ट्रीच

स्थानीय जू के पास अभी एक मादा आस्ट्रीच है। आस्ट्रीच पक्षी को लेने के लिए भेडिये के एक जोड़ों को लेकर चिड़ियाघर की चार सदस्यी टीम 17 नवंबर को रांची गई हुई है। एक जोड़े को देने के बाद इंदौर जू के पास अब 11 भेडिए बचे हैं। एक जोड़े के आने के बाद अब चिड़ियाघर में तीन आस्ट्रीच पक्षी हो जाएंगे। यह दुनिया के सबसे बड़े पक्षी में शामिल है। हालांकि यह उड़ नहीं पाता है। यह 60-70 किलोमीटर की रफ्तार से भाग सकता है। संग्रहालय के प्रभारी उत्तम यादव ने बताया कि मार्च से अब तक कोरोना संक्रमण के चलते एनिमल एक्सचेंज प्रोग्राम बंद था लेकिन अब केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने इसकी अनुमति प्रदान कर दी है।

Posted By: dinesh.sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस